राजस्थान के मंत्रियों के सामने “नो मास्क- नो एंट्री” मात्र एक स्लोगन

-भाजपा मुख्य प्रवक्ता रामलाल शर्मा ने सरकार से कोविड-19 में लापरवाही से हो रही मौतों पर अंकुश लगाने की मांग

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश मुख्य प्रवक्ता रामलाल शर्मा ने राजस्थान सरकार पर कोरोना प्रबंधन को लेकर आरोप लगाते हुए कहा कि राजस्थान की सरकार “नो मास्क- नो एंट्री” का एक स्लोगन देती है और आमजन से अपील करती है कि जहां भी जाए मास्क लगाकर जाए और कोविड-19 के अंदर सरकार का सहयोग करें।

परंतु दुर्भाग्य इस बात का है कि राजस्थान सरकार के कई मंत्री भी जब चुनावी समर के अंदर जाते हैं और चुनावी सभाओं को संबोधित करते हैं तो बिना मास्क के उनकी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होती है और कई प्रिंट मीडिया उसको छापने का काम भी करते हैं।

और जब प्रचार के दौरान संक्रमित होने के उपरांत आरयूएचएस के अंदर भर्ती होते हैं, तो कोविड के मरीजो से मिलने की उनको याद आती हैं।

भाजपा प्रवक्ता रामलाल शर्मा ने कहा कि मैं चाहूंगा कि राजस्थान की सरकार कम से कम स्वयं संक्रमित होने के उपरांत उन मरीजों से मिलने का जो साहस मंत्री जी ने दिखाया है, ये साहस मुझे लगता है कि कोविड संक्रमण के शुरुआत से दिखाया होता तो राजस्थान के अंदर इस कोविड की लड़ाई को और भी नियंत्रित करने के मदद मिलती।

लेकिन मैं चाहूंगा कि राजस्थान की सरकार जब नारे देने का काम करती हैं, सरकार आवश्यक कदम उठाने का काम नहीं करती है और इस कोविड की लड़ाई में आमजनता, जो अपने भरोसे लड़ रही है।

मैं चाहूंगा कि राज्य सरकार अपनी संवेदनशीलता का परिचय देते हुए इस कोविड की लड़ाई के अंदर दो कदम आगे बढ़ाने का काम करें और कोविड के मरीजों को सहायता पहुंचाने का काम करें और लापरवाही पूर्वक जिन मरीजो की मौत हो रही है उन मौतों पर कम से कम अंकुश लगाने का काम राज्य सरकार तत्काल प्रभाव से करें।

यह भी पढ़ें :  सोनिया गांधी का हाथ पकड़ लिया था, आज मोदी सरकार में मंत्री