सैनिटाइजर की आग से सिटी सेंटर ‘भस्म’

खुलासा : धनतेरस कर रात सिटी सेंटर में लगी भयंकर आग की असली वजह बेसमेंट की दुकान में भरे अवैध सैनिटाइजर ने दीये से पकड़ ली थी आग
जयपुर।

दीपावली से पहले संसारचंद रोड स्थित सिटी सेंटर में आग सैनिटाइजर की बोतलों की वजह से भड़की थी। दुकान के बेसमेंट की एक दुकान में अवैध रूप से सैनिटाइजर का भंडारण किया गया था।

इसी दुकान में शाम को एक महिला कर्मचारी ने धनतेरस का दीपक जलाया था। दीपक जलाकर दुकान ओनर शटर बंद कर घर चला गया। दीपक जलता रहा और सैनिटाइजर ने आग पकड़ ली।

सामने एक पान की थड़ी लगाने वाले ने दुकान में से जलने की स्मैल आने पर पास जाकर देखा। पड़ोसी दुकानवालों को बताया। आसपास वालों ने सैनिटाइजर की दुकान वाले को कॉल किया।

करीब बीस मिनट बाद वह आया और ज्यों ही ताला खोलकर दुकान का शटर उठाया, दुकान में आग धधक उठी।

देखते ही देखते आसपास की दुकानें भी आग की लपटों में घिरती चली गई और करीब चार घंटे में सिटी सेंटर के तीन फ्लोर की करीब 40 दुकानों में भरा करीब 20 करोड़ का सामान जलकर खाक हो गया।

इस आग की वजह अवैध रूप से स्टोर किया गया सैनिटाइजर होने का खुलासा हुआ है।

शॉप नंबर बी-28 में था सैनिटाइजर का अवैध स्टोरेज था, जिससे कॉम्प्लेक्स की 40 दुकानें जलकर हुई राख। चार घंटे तक आग का तांडव चला, जिसमें 20 करोड़ रुपए का सामान जलकर स्वाहा। पुलिस जांच जारी

कॉमर्शियल कॉम्प्लेक्स में एक भी फायर एक्सटिंग्विशर होता तो बुझाई जा सकती थी आग
सीएफओ हेरिटेज देवेन्द्र मीना तो इस बात से हैरान रह गए कि शहर के बीचोंबीच इतनी बड़े कॉमर्शियल कॉम्प्लेक्स में फायर सेफ्टी के काई उपाय नहीं थे।

यह भी पढ़ें :  सचिन पायलट होंगे मुख्यमंत्री, अशोक गहलोत होंगे कांग्रेस अध्यक्ष!

फायर सेफ्टी सिस्टम और हाईड्रेंट तो छोड़ों किसी दुकान में एक फायर एक्सटिंग्विशर तक नहीं था। मीना बोले ‘मैंने जयपुर में अपनी डेढ़ वर्ष की नौकरी में फायर सेफ्टी के लिहाज से इतनी खतरनाक बिल्डिंग नहीं देखी।

इसी कॉम्प्लेक्स में एक एपीजी गैस एजेंसी भी है। जब फायर बिग्रेड की टीम आग बुझाने पहुंची तो खुलासा हुआ कि एजेंसी के ऑफिस में ही भरे हुए एलपीजी के सिलेंडर भी रखे थे। उन्हें भी बाहर निकलवाया गया। यह भी नियमानुसार गलत है।

सात दिन से खौफ में व्यापारी
सिटी सेंटर की 35 दुकानों में 20 करोड़ का लॉस सिटी सेंटर में ऑटो पाट्र्स,केमिकल और स्टेशरी कारोबारियों का करोड़ों का नुकसान हुआ है। एक दुकानदार की लापरवाही का इतना बड़ा हादसा हो गया, जिससे कई व्यापारी मुसीबत में हैं।
गोपेश कुमार, व्यापारी सिटी सेंटर

ऑफिस के अलावा दो शॉप में गोदाम बने थे। उनमें आग से करीब 70-80 लाख रुपए का लॉस हुआ है। हालांकि इंश्यारेंस है, लेकिन पूरा व्यवसाय अचानक से पटरी से उतर गया। कोराना संकट चल रहा है उस पर आग ने नुकसान में घी काम किया।

संजीव कपूर, व्यापारी सिटी सेंटर

जिस समय आग लगी मैं सिटी सेंटर में ही था। एक व्यापारी सीढिय़ों से भागते हुए नीचे की तरफ भागता हुआ आया। और पीछे की तरफ आग लगने की बात कही। दुकान का शटर खुलते ही दुकान धधक उठी और कुछ ही देर में पूरी बिल्डिंग आग की लपटों में घिर गई।
मयंक, कम्प्यूटर कारोबारी सिटी सेंटर