Hanuman beniwal पश्चिमी Rajasthan में Congress और BJP को चटायेंगे धूल

Jaipur. राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (Rashtriy loktantrik party) के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल (Hanuman beniwal) पश्चिमी राजस्थान में पंचायत चुनाव (Panchayat chunav) के दौरान कांग्रेस (Congress) और भाजपा (BJP) दोनों को धूल चटा देंगे।

हनुमान बेनीवाल पश्चिमी राजस्थान के सीकर से लेकर चूरू, नागौर, बीकानेर, अजमेर, बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर, पाली, राजसमंद, जिलों में खासतौर से पंचायत समिति व जिला परिषद सदस्यों के चुनाव में पार्टी के उम्मीदवार उतारकर बड़े पैमाने पर चुनाव प्रचार में जुटी हुए हैं।

नागौर हनुमान बेनीवाल का संसदीय क्षेत्र (Parliament) है और यहां पर खींवसर (Khinvsar) विधानसभा क्षेत्र से खुद ही तीन बार विधायक रह चुके हैं और वर्तमान में उनके भाई नारायण बेनीवाल विधायक हैं।

इसके अलावा नागौर के ही मेड़ता से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) की इंदिरा देवी (indira devi) विधायक हैं। जोधपुर के भोपालगढ़ से पार्टी के अध्यक्ष पुखराज गर्ग (Pukhraj garg) विधायक हैं।

नागौर के अलावा सीकर, झुंझुनू, चूर, बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर जिलों में हनुमान बेनीवाल पंचायत समिति चुनाव में पूरी ताकत लगा रहे हैं। अपने उम्मीदवार घोषित करने के साथ ही हनुमान बेनीवाल दिन-रात रैलियां करके प्रसार में जुटे हुए हैं।

इधर, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया (Satish poonia) अस्वस्थ होने के कारण होम कॉरेण्टाइन हैं। कांग्रेस पार्टी की स्थिति ऐसी है कि पूर्व अध्यक्ष सचिन पायलट (Sachin pilot) और प्रदेश के मुखिया अशोक गहलोत (Ashok gehlot) की राजनीतिक लड़ाई से अब भी बाहर नहीं आ पा रही है।

राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok gehlot) और कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind singh dotasara) अभी तक पंचायत समिति व जिला परिषद चुनाव के लिए प्रचार शुरू नहीं कर पाए हैं, तो दूसरी तरफ भाजपा इस मामले में राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से पिछड़ी हुई नजर आ रही है।

यह भी पढ़ें :  बेनीवाल का शायराना अंदाज: '...वो कत्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता'

ऐसे में हनुमान बेनीवाल (Hanuman beniwal) के द्वारा ऐसे में हनुमान बेनीवाल द्वारा किए जा रहे प्रयास खासतौर से पंचायत समिति और जिला परिषद चुनाव परिणाम को अपनी तरफ मोड़ने में कामयाब हो सकते हैं।

क्योंकि 2023 विधानसभा चुनाव से पहले राजस्थान में यह सबसे बड़ा चुनाव है और इन चुनाव के परिणाम का असर निश्चित रूप से 2023 के विधानसभा चुनाव में पड़ेगा, जिसकी तैयारी करने में हनुमान बेनीवाल अभी से जुट गए हैं।

अगर पश्चिमी राजस्थान के दो या तीन जिलों में भी हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी जिला प्रमुख और दो चार जगह पर पंचायत समिति प्रधान बनाने में कामयाब होती है तो यह उनके लिए बहुत बड़ी उपलब्धि होगी।

2023 के विधानसभा चुनाव (Assembly Election 2023) से पहले अगर हनुमान बेनीवाल पंचायत समिति और जिला परिषद चुनाव में अपनी ताकत का एहसास करवाने में कामयाब होते हैं तो 2023 में भाजपा के साथ गठबंधन करने के वक़्त नेगोशिएशन करने में भाजपा को बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

इसी तरह से जिस तरह कांग्रेस की वर्तमान सरकार चल रही है और उसके खिलाफ anti-incumbency बन रही है, उससे साफ नजर आ रहा है कि न केवल भारतीय जनता पार्टी को इस चुनाव में लाभ होगा, बल्कि राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी जो पहली बार पंचायती राज के चुनाव लड़ रही है, उसके लिए भी राजनीतिक जमीन तैयार मिल रही है।