महिला नेत्री को लेकर भाजपा के नेता प्रतिपक्ष और वरिष्ठ विधायक भिड़े

जयपुर।
जहां एक ओर भाजपा के अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में उपचार करवा रहे हैं, वहीं उनकी उनुपस्थिति में भाजपा के दो वरिष्ठ नेताओं में जुबानी जंग शुरू हो गई है।

नेता प्रतिपक्ष गुलाबंचद कटारिया और विद्याधर नगर से विधायक नरपत सिंह राजवी में जुबानी जंग चल पड़ी है। भाजपा की जयपुर हैरिटेज निगम में सरकार नहीं बन रही है, जिसके चलते भाजपा के नेता आपस में ही तकरार करने में लगे हैं।

कटारिया ने राजवी के बयान पर पलटवार करते हुए एक दिन पहले ही कहा था कि अगर सौम्या गुर्जर करौली की होने की वजह से बाहरी हैं, तो फिर खुद राजवी भी तो जयपुर से बाहर के ही हैं।

इसके बाद राजवी ने आज कटारिया के बयान पर पलटवार किया है। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के करीबी माने जाने वाले राजवी ने सौम्या गुर्जर को जयपुर ग्रेटर की महापौर प्रत्याशी बनाये जाने से गहरी नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने आज कहा कि कटारिया का पार्टी में क्या योगदान है, वो बता दें।

इससे पहले शनिवार को मामले में दखल देते हुये उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ ने कहा था कि पार्टी में कहीं कोई फूट नहीं है और सर्व सम्मत्ति से ही सौम्या गुर्जर को उम्मीदवार बनाया गया है। उन्होंने एक तरह से राजवी की बात को दरकिनार कर दिया है।

गौरतलब है कि इन दिनों इस बात की ज्यादा चर्चा हो रही है कि राजवी के अलावा मालवीय नगर के विधायक कालीचरण सराफ, सांगानेर विधायक अशोक लाहोटी और झोटावाड़ा से विधायक रहे राजपाल सिंह भी वसुंधरा राजे के करीबी हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  31000 पदों पर होगी शिक्षक भर्ती, इस दिन होगी परीक्षा

क्योंकि डॉ. सतीश पूनियां जब से अध्यक्ष बने हैं, तब से अब तक ये सभी लोग किसी न किसी रुप में उनका विरोध करते हुये उनको फ्लॉप साबित करने में जुटे हुये हैं। अब क्योंकि उम्मीदवार बनाने की जिम्मेदारी संगठन मुखिया थी, तो इस बहाने ये सभी लोग डॉ. पूनियां के खिलाफ महौल बनाने में जुट गये हैं।