राजस्थान में गुर्जरों की तरह जाट भी आंदोलन को राह पर

-केंद्र में आरक्षण की मांग को लेकर भरतपुर धौलपुर के जाट करेंगे आंदोलन

भरतपुर। राजस्थान में गुर्जरों के बाद अब जाट आरक्षण आंदोलन भी भड़कने की ओर है। गुरुवार को भरतपुर-धौलपुर जाट आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक नेम सिंह फौजदार ने पत्रकार वार्ता करते हुए कहा की विगत 2017 में हुए जाट आंदोलन समझौता में सरकार ने यह आश्वासन दिया था कि भरतपुर व धौलपुर जिलों के जाटों को केंद्र में आरक्षण के लिए राज्य सरकार चिट्ठी लिखेगी।

विगत आंदोलन में आंदोलनकारियों के खिलाफ दर्ज मुकदमों को बापस लिया जायेगा व चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्तियां दी जाएगी, लेकिन सरकार ने इन मांगों को अभी तक पूरा नहीं किया है। इसलिए हमारी मांग है की सरकार हमारी तीन मांगों को पूरा कर अपने वायदे को निभाने का काम करे।

शीघ्र ही आंदोलन के लिए रणनीति बनाई जाएगी, जिसके लिए पहली महापंचायत आगामी 18 नवंबर को गाँव पथैना में आयोजित की जाएगी और उसके बाद कई बड़े गाँव में महापंचायत आयोजित कर आंदोलन की रणनीति तैयार की जाएगी। इन सभी महापंचायतों के बाद एक हुंकार रैली का आयोजन कर आंदोलन शुरू करने का समय निर्धारित किया जायेगा।

जाट नेता नेम सिंह फौजदार ने बताया की आंदोलन करना हमारा शौक नहीं बल्कि मजबूरी है, लेकिन सरकार यदि हमारी मांग पूरी करती है तो जाट समाज सरकार का स्वागत करेगा, अन्यथा आंदोलन के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

जाट आंदोलन के बारे में सरकार अच्छी तरह से समझती है की भरतपुर से लगी आंदोलन की आग पूरे उत्तर भारत में फैलती है। वर्ष 2017 में जाट आंदोलन के दौरान सरकार के साथ हुए समझौता वार्ता में जाटों कि तरफ से प्रतिनिधिमंडल में डॉ सुभाष गर्ग भी शामिल थे, जो फिलहाल राज्य सरकार में मंत्री भी है।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान का सबसे बड़ा सरकारी विवि अगले साल से केवल 4 प्रोफेसर्स के भरोसे!

आंदोलन के दौरान जाट समाज रेलवे ट्रैक, हाईवे सहित सभी छोटे बड़े मार्गों को जाम करेगा और यहाँ के आंदोलन की आग उत्तर प्रदेश व हरियाणा तक फैलेगी, जिसे सरकार पूर्व में भी देख चुकी है, इसलिए सरकार ने जो वायदा किया था उसे समय पर पूरा करे।

इस अवसर पर सुनील सरपंच नोहरदा, निहाल सिंह खान सुरजापुर, राजकुमार सोनू, संजय सिंह, कमल सिंह इन्दोलिया, अजय डागुर धौलपुर, हरिसिंह ठेकेदार, राजेश कुंतल, कुसमेन्द्र सिंह एडवोकेट, विजय सिंह फौजदार कोरिअर सुनील सरपंच नोहरदा कमलसिंह इंदौलीया सत्यवीर हथेनी निहालसिंह खाननसूरजापुर राजेश कुंतल,भूपेंद्र कोरेर उपस्थित रहे।