राजस्थान विधानसभा का सत्र आज से, सरकार मोदी के तीन कृषि कानून के खिलाफ लाएगी बिल

जयपुर। हाल ही में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के द्वारा कृषि सुधारों के लिए बनाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ राजस्थान सरकार आज राज्य विधानसभा में कृषि बिल लाने जा रही है।

राज्य विधानसभा का सत्र आज सुबह 11:00 बजे से शुरू होने जा रहा है। विधानसभा सत्र की तैयारियां पूरी कर ली गई है। बताया जा रहा है कि विधानसभा सत्र एक या 2 दिन का हो सकता है।

एक दिन पहले ही भारतीय जनता पार्टी की तरफ से कहा गया है कि केंद्र सरकार के द्वारा स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों के अनुकूल तीन कृषि कानून बनाए गए थे, जिन को लेकर कांग्रेस की सरकार सोनिया गांधी और राहुल गांधी की चमचागिरी करते हुए उन को खुश करने के लिए उनके विरुद्ध संघ राज्य के खिलाफ जाकर कृषि कानून बनाने जा रही है।

भाजपा का कहना है कि कृषि सुधारों के लिए नरेंद्र मोदी सरकार बड़े पैमाने पर काम कर रही है, लेकिन यह काम वह कांग्रेस की पार्टी को हजम नहीं हो रहे हैं, जबकि इन्हीं की सिफारिश पहले कांग्रेस पार्टी खुद कर चुकी है। लेकिन भाजपा कर रही है, इसलिए तकलीफ हो रही है।

भाजपा के अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ ने कहा है कि राज्य सरकार के द्वारा अगर केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ या उनको निष्प्रभावी करने के कानून बनाए गए तो उनका विधानसभा के भीतर पुरजोर विरोध किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि पंजाब और छत्तीसगढ़ की सरकार इससे पहले अध्यादेश जारी करने के बाद विधानसभा सत्र बुलाकर केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ उन को निष्प्रभावी करने के लिए चार प्रकार के कृषि कानून बना चुकी है।

यह भी पढ़ें :  केंद्र के पाले में गुर्जर आरक्षण, राज्य सरकार ने खेला पुराना कार्ड

किंतु सबसे बड़ी विडंबना ही है कि जिस तरह से सरकार यह कार्य कर रही है, उसके बावजूद किसानों को विशेष फायदा नहीं होने वाला है, क्योंकि जिस तरह से पंजाब और छत्तीसगढ़ की सरकार ने जिन्हें उत्पादन के लिए यह कानून बनाए हैं, उनका उत्पादन राज्य में कम हो रहा है।