पिंकी चौधरी 2 महीने पहले धोखा देकर प्रेमी के साथ भागी, अब फिर चाहती है पति का प्यार

बाड़मेर। पंचायत समिति समदड़ी की निवर्तमान प्रधान पिंकी चौधरी 2 महीने पहले पति को धोखा देकर प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भाग गई थी। अब दो महीने में ही प्रेमी से मन भर गया है, ऐसे में पिंकी चौधरी एक बार फिर से अपने पति अर्चन चौधरी का प्यार पाना चाहती है।

बकौल पिंकी चौधरी 19 अगस्त को वह खेत पर अपने परिवार के पास काम करने के लिए जा रही थी, तभी अशोक चौधरी नामक एक युवक ने उसको लिफ्ट देने के बहाने बैठा लिया और जयपुर ले गया। वहां पर उसको 4 दिन तक रखा, इसके बाद जोधपुर ले आया।

महज 21 साल की उम्र में समदड़ी पंचायत समिति की प्रधान बनी पिंकी चौधरी का कहना है कि उसको अशोक चौधरी ने बंधक बनाया, बच्चे को मारने की धमकी दी, परिवार को खत्म करने की धमकी दी और 2 महीने तक उसका शारीरिक शोषण किया।

पिंकी चौधरी का कहना है कि उसके ससुर देवता समान हैं और बहुत अच्छे आदमी हैं। अशोक चौधरी के दबाव में आकर ही उसने अपने ससुर के खिलाफ 2 महीने पहले पुलिस के सामने मीडिया को बयान दिया था, किंतु यह बात पिंकी चौधरी अशोक चौधरी की साजिश बताती है।

पिंकी चौधरी का कहना है कि 2 महीने तक लगातार अशोक चौधरी ने उसका न केवल शारीरिक शोषण किया, बल्कि उसके फोटो और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी देकर उसके ससुर का राजनीतिक कैरियर भी खत्म करने की साजिश रची।

भले ही पिंकी चौधरी के पूर्व पति अर्चन चौधरी ने शादी कर ली हो, लेकिन वह अशोक चौधरी के पास नहीं रहना चाहती है और अपने पूर्व पति अर्चन चौधरी के पास लौटना चाहती है।

यह भी पढ़ें :  कांग्रेस के घनश्याम तिवाडी न बन जाएं सीपी जोशी?

प्रधान पिंकी चौधरी का यह भी कहना है कि उसके ससुर का राजनीतिक करियर खत्म करने के लिए अशोक चौधरी समेत चार अन्य लोगों ने इस पूरी साजिश को अंजाम दिया था और दबाव बनाकर पूर्व में बयान दिलवाए गए थे। इसके साथ ही पिंकी ने अर्चन चौधरी से तलाक कराने का आरोपी अशोक चौधरी पर ही मढ़ा है।

किंतु अब समस्या यह है कि अर्चन चौधरी ने पिंकी चौधरी के तलाक के बाद दूसरी शादी कर ली है और तो वह दो पत्नियां कैसे रह सके रख सकता है? ऐसे में पिंकी चौधरी के सामने धर्मसंकट है कि वह अपने प्रेमी के साथ रहे या पूर्व पति के?

उल्लेखनीय है कि केवल 21 साल की उम्र में समदड़ी पंचायत समिति की 2015 में पिंकी चौधरी प्रधान बनी थी। अभी 23 नवंबर से 5 दिसंबर तक राजस्थान में एक बार फिर से पंचायत समिति और जिला परिषद सदस्यों के चुनाव हो रहे हैं, जिसमें पिंकी चौधरी फिर से अपना भाग्य आजमा सकती है।