क्या प्रदेश मंत्री की रबड़ स्टांप हैं युवा मोर्चा के अध्यक्ष?

– हाल ही में भाजपा के द्वारा राजस्थान में 7 मोर्चा अध्यक्षों का नाम घोषित किया गया है, किंतु युवा मोर्चा के अध्यक्ष को छोड़कर किसी पर भी कार्यकर्ताओं में विवाद नहीं है।

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के द्वारा हाल ही में घोषित किए गए 7 मोर्चा अध्यक्षों में से युवा मोर्चा के अध्यक्ष हिमांशु शर्मा को लेकर पहले सप्ताह में ही कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं।

भाजपा कार्यालय में चर्चा है कि खासतौर से प्रदेश भाजपा के एक मंत्री की रबड़ स्टांप की तरह दिखाई दे रहे हैं।

हिमांशु शर्मा के नाम का ऐलान होने के दूसरे दिन से ही युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं में इस बात की चर्चा शुरू हो गई कि है कि आखिर ऐसे प्रदेश मंत्री के रबड़ स्टांप के तौर पर युवा मोर्चा अध्यक्ष कब तक कार्य करते रहेंगे, जो खुद को प्रदेश अध्यक्ष और संगठन महामंत्री से भी बड़ा दिखाने का हरसंभव प्रयास करते रहते हैं?

युवा मोर्चा अध्यक्ष को लेकर हो रही इस चर्चा के चलते यह भी सवाल उठ रहे हैं कि क्या वह प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां और संगठन महामंत्री चंद्रशेखर की उम्मीदों पर खरा उतर पाएंगे।

पिछले एक सप्ताह से लगातार इस चर्चा के चलते जहां एक तरफ दूसरे महिला मोर्चा, एससी मोर्चा, एसटी मोर्चा, ओबीसी मोर्चा, किसान मोर्चा, अल्पसंख्यक मोर्चा अध्यक्षों को लेकर किसी तरह की कोई बात नहीं हो रही है, वहीं युवा मोर्चा के अध्यक्ष को लेकर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं।

कहा यह भी जा रहा है कि जिलों में युवा मोर्चा के अध्यक्ष और युवा मोर्चा की प्रदेश कार्यकारिणी बनाने के मामले में भी भाजपा के इस मंत्री का अच्छा खासा दखल अभी से दिखाई देने लगा है।

यह भी पढ़ें :  सख्ती दिखाने लगे दवा कारोबारी, हॉलसेल मार्केट में टेलिफोन आर्डर पर ही ​मिलेगी दवाईयां

चर्चा है कि अगर निकट भविष्य में युवा मोर्चा अध्यक्ष हिमांशु शर्मा इस मंत्री की छाया से बाहर नहीं निकल पाए तो उनकी छवि खराब तो होगी ही, साथ ही कई तरह के आरोप भी लगते हुए दिखाई देने लगे हैं।