16 C
Jaipur
रविवार, नवम्बर 1, 2020

नहीं चला विधायकों का दबाव, संगठन अपने हिसाब से करेगा टिकट वितरण

- Advertisement -
- Advertisement -

जयपुर। निकाय चुनाव-2020 में भाजपा संगठन अपने हिसाब से टिकट वितरण करेगा और इस बार पैराशूटी प्रत्याशियों के बजाए ठोस कार्यकर्ताओं को टिकटों से नवाजा जाएगा।

अपने चहेतों को टिकट दिलवाने के लिए शहर के विधायकों ने भारी दबाव बनाने की कोशिश की, लेकिन संगठन के आगे विधायकों का दबाव नहीं चल पाया।

- Advertisement -satish poonia

हालांकि संगठन ने विधायकों की ओर से दावेदारों के नामों की लिस्ट ली है, लेकिन कहा जा रहा है कि संगठन ने विधायकों के पर कतर कर रख दिए हैं और संगठन 70 फीसदी से अधिक टिकट अपने हिसाब से देगा, ताकि तेज हो रहे बगावती सुरों को ठंड़ा किया जा सके।

निकाय चुनाव में टिकट वितरण को लेकर शनिवार को भाजपा प्रदेश मुख्यालय में आज संगठन की बैठक हुई। बैठक में जयपुर, जोधपुर और कोटा नगर निगम के प्रत्याशियों के नामों पर चर्चा की गई।

बैठक में प्रदेशाध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया, वी सतीश, चंद्रशेखर और केंद्रीय मंत्री शामिल रहे। इस दौरान दो-दो करके विधायकों और हारे हुए विधायक प्रत्याशियों को भी बुलाया गया और उनसे उनके क्षेत्र के दावेदारों के नाम लिए गए।

भाजपा के सूत्रों का कहना है कि इस चुनाव में संगठन का मानस है कि अधिक से अधिक संख्या में भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ताओं को टिकट दिया जाए।

विधायक दबाव बनाने की कोशिश में थे कि पहले की तरह टिकट वितरण में उनकी ज्यादा से ज्यादा चले और वह अपने चहेतों को टिकट दिलाने में कामयाब हो जाएं, लेकिन संगठन पर विधायकों का दबाव चला नहीं।

इससे पूर्व विधायकों की राय पर ही अधिकांश टिकट दिए जाते रहे हैं।
संगठन को पता है कि कार्यकर्ताओं में जयपुर के विधायकों, पूर्व विधायकों और हारे हुए प्रत्याशियों के खिलाफ भारी असंतोष है।

ऐसे में यदि विधायकों की अनुशंषा पर टिकट वितरण होता है तो भाजपा को बगावत का सामना करना पड़ेगा, जो उसके लिए काफी नुकसानदेह होगा।

संगठन अब विधानसभा चुनावों के पूर्व निगम में भाजपा का बोर्ड गिरने, कुछ पार्षदों द्वारा विधायकों से नाराजगी के चलते क्रॉस वोटिंग करने, कुछ पार्षदों के भाजपा छोड़ कर कांग्रेस का दामन थामने और विधानसभा चुनावों में जयपुर का गढ़ ढहने जैसे बिंदुओं को ध्यान में रखकर टिकट वितरण करना चाह रहा है, ताकि शहर में फिर से भाजपा को मजबूत किया जा सके, लेकिन विगत डेढ़-दो दशकों में बड़े पदों पर रहने वाले जयपुर के नेताओं, विधायकों को इसमें रोड़ा माना जा रहा था, इसलिए संगठन ने इनके पर कतरने में ही भलाई समझी है।

टिकट वितरण में इसी तरह की सावधानियां जोधपुर और कोटा के लिए भी बरती जा रही है।

यही कारण है कि भाजपा के प्रत्याशियों की लिस्ट जारी होने में देरी हो रही है। रविवार को भाजपा अपने प्रत्याशियों की सूची जारी कर सकती है।

लगभग सभी दावेदारों ने अपने नामांकन की तैयारियां पूरी करके रखी है। सूची में नाम आते ही वह सिंबल लेकर सोमवार को नामांकन दाखिल कर देंगे। सोमवार को दोपहर 3 तीन बजे तक नामांकन दाखिल किए जा सकते हैं।

विधायक दिखा सकते हैं बगावती तेवर
सूत्रों का कहना है कि शहर के भाजपा विधायकों का धरातल इन दिनेां कार्यकर्ताओं ने हिला रखा है। ऐसे में संगठन की ओर से निराशा मिलने के बाद कुछ विधायक बगावती तेवर अपना सकते हैं। लेकिन संगठन मुखिया डॉ पूनियां ने तय किया है कि संगठन ही सर्वोपरि है।

कहा जा रहा है कि इन विधायकों ने अपने चहेतों को संगठन की बैठक के बाद इशारा कर दिया है कि वह निर्दलीय नामांकन दाखिल करने की तैयारी करें। विधायक अब संगठन को अपना रुतबा दिखाने की कोशिश में लगे हैं, ताकि शहर पर उनका दबदबा कायम रह सके।

- Advertisement -
नहीं चला विधायकों का दबाव, संगठन अपने हिसाब से करेगा टिकट वितरण 3
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

स्वास्थ्य सेवा बढ़ाकर गरीबी उन्मूलन को गति देता चीन

बीजिंग, 31 अक्टूबर (आईएएनएस)। चीन ने आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक क्षेत्रों में काफी प्रगति की है क्योंकि साल 1978 में उसने सुधार और...
- Advertisement -

कांग्रेस ने राम और कृष्ण में किया भेद, भाजपा नेता ने अदालत में पूजास्थल कानून को दी चुनौती

नई दिल्ली, 31 अक्टूबर(आईएएनएस)। कांग्रेस की तत्कालीन सरकार की ओर से वर्ष 1991 में बनाए गए पूजा स्थल कानून को भेदभावपूर्ण और मौलिक अधिकारों...

महिलाओं पर गलत टिप्पणी को लेकर मुकेश खन्ना हुए ट्रोल

मुंबई, 31 अक्टूबर (आईएएनएस)। अभिनेता मुकेश खन्ना ने कहा कि ये मी टू की प्रॉब्लेम तब शुरू हुई जब महिलाओं ने घर से बाहर...

मुम्बई सिटी एफसी ने होराम, टोंडोम्बा को अपने साथ जोड़ा

मुम्बई, 31 अक्टूबर (आईएएनएस)। इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) की टीम मुम्बई सिटी एफसी ने मिडफील्डर चान्सो होराम और नोरेम टोंडोम्बा सिंह के साथ करार...

Related news

समदड़ी प्रधान Pinky choudhary रहना चाहती हैं अपने पुराने पति के साथ, पर यह है बड़ा संकट

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति के निवर्तमान प्रधान पिंकी चौधरी अपने कथित प्रेमी और वर्तमान पति अशोक चौधरी से 2 महीने...

पिंकी चौधरी 2 महीने पहले धोखा देकर प्रेमी के साथ भागी, अब फिर चाहती है पति का प्यार

बाड़मेर। पंचायत समिति समदड़ी की निवर्तमान प्रधान पिंकी चौधरी 2 महीने पहले पति को धोखा देकर प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भाग...

समदड़ी प्रधान पिंकी चौधरी को प्रेमी ने बनाया बंधक, फ़ोटो, वीडियो किये वायरल

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति से निवर्तमान प्रधान पिंकी चौधरी ने अशोक चौधरी नामक एक व्यक्ति, जिसको कथित तौर पर पिंकी...

Pinky Choudhary पहले प्रेमी के साथ भागी, अब अपने पति के साथ जाना चाहती है

बाड़मेर। जिले की समदड़ी पंचायत समिति (Samdadi) प्रधान पिंकी चौधरी (Pinky Choudhary) अपने प्रेमी के साथ भाग गई। उसके साथ शादी कर...
- Advertisement -