हनुमान बेनीवाल करेंगे गहलोत-वसुंधरा गठजोड़ को एक्सपोज, कृषि कानूनों पर भी हुए सख्त

नागौर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद, जो कि वर्तमान में एनडीए के घटक दल के रूप में काम कर रहे हैं, जल्द ही 3 कृषि कानूनों के खिलाफ और राज्य में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व वसुंधरा राजे के गठजोड़ के विरुद्ध बड़ा आंदोलन करने जा रहे हैं।

नागौर में पत्रकारों से बात करते हुए हनुमान बेनीवाल ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि उन्होंने अभी तक भी जो केंद्र सरकार के द्वारा तीन कृषि कानून संसद में पारित करवाए गए हैं, उनका समर्थन नहीं किया है।

उन्होंने कहा है कि कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों से बातचीत हो रही है और इनमें जो जरूरी संशोधन हैं, वह करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से समय लेकर मुलाकात करेंगे।

उन्होंने कहा है कि जिस दिन बिल पास हुए थे, उस दिन वो संसद में कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट के कारण उपस्थित नहीं हुए थे, लेकिन इन कानूनों का वो विरोध करते हैं।

बेनीवाल ने कहा है कि सरकार ने इन बिलों के माध्यम से कंपनियों को ही एसडीएम के पास जाने और पंच नियुक्त करने का अधिकार दिया है, जबकि किसान को कोर्ट जाने का प्रावधान नहीं किया गया है।

उन्होंने कहा है कि केंद्र की सरकार का हिस्सा होने के बाद भी इन बिलों की खामियों को लेकर विरोध करते हैं, अगर सरकार ने बदलाव नहीं किया तो वो बड़ा आंदोलन करेंगे। स्पष्ट रूप से उन्होंने मोदी सरकार का खिलाफ बगावत कर दी है।

हनुमान बेनीवाल ने राज्य सरकार की विफलताओं को लेकर बातचीत करते हुए कहा है कि डूंगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़, उदयपुर क्षेत्र में आदिवासी बेरोजगार युवाओं के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई की गई, वह गलत थी और युवाओं की मांगों को समय पर सरकार समझकर उनका समाधान करें।

यह भी पढ़ें :  सनी देओल पर ट्वीट किया तो कुमार विश्वास को खानी पड़ी 3232 गालियां

हनुमान बेनीवाल ने अपने चिर परिचित अंदाज में एक बार फिर से पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और वर्तमान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के राजनीतिक गठजोड़ की बात करते हुए कहा है कि इन दोनों लोगों की वजह से राजस्थान 22 बरस पीछे है। अब वह इन दोनों के खिलाफ फिर से सड़कों पर उतरने जा रहे हैं।

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) में शामिल हनुमान बेनीवाल ने कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार के ऊपर निशाना लगाया है। इससे माना जा रहा है कि बेनीवाल जल्द ही एनडीए से बाहर होने का फैसला ले सकते हैं।