PTI5_23_2018_000053B
जयपुर।

प्रदेश में चुनाव के बाद आए सर्वे ने हालांकि कांग्रेस को लीड दे रखी है, लेकिन इसके बावजूद अपनी जीत के प्रति आश्वस्त नहीं होने के कारण कांग्रेस ने भी जोड़तोड़ की गणित की शुरुआत कर दी है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत चुनाव के तुरंत बाद दिल्ली चले गए। बताया जा रहा है कि प्रदेश में हुए चुनाव और एग्जिट पोल के बाद उपजी अनुकूल स्थिति के बावजूद कांग्रेस पार्टी गुजरात वाली गलती नहीं दोहराना चाहती है।

बताया यह भी जा रहा है कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने की स्थिति में मुख्यमंत्री को लेकर भी अशोक गहलोत दिल्ली गए हैं। आज प्रताप सिंह खाचरिवास द्वारा दिया गया बयान भी कांग्रेस में तूफान ला चुका है।

गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी में मुख्यमत्री की दावेदारी को लेकर दो साल से अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच शीतयुद्ध चल रहा है। खाचरिवास को सचिन पायलट गुट से माना जाता है, इसके चलते यह बयान काफी मायने रखता है।

इधर, गहलोत के दिल्ली जाने के बाद राजनीतिक जानकारों का कहना है कि यह बिलकुल वैसा ही है, जैसे 1998 और 2008 में हुआ था। तब गहलोत चुनाव के बाद दिल्ली में डेरा डाले बैठे रहे थे और मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनकर ही वापस लौटे थे।

Leave a Reply