नई दिल्ली।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस बार लोकसभा चुनाव 2 संसदीय क्षेत्रों से लड़ेंगे। पहला परंपरागत अमेठी जो कि उत्तर प्रदेश में स्थित है, और दूसरा कर्नाटक का वायनाड।

आपको याद दिला दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान अमेठी लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी के कैंडिडेट स्मृति ईरानी राहुल गांधी के सामने 107000 वोटों से हार गई थीं।

लगातार दूसरी बार अमेठी से बीजेपी ने स्मृति ईरानी को राहुल गांधी के खिलाफ टिकट दिया है, लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि इस बार राहुल गांधी के लिए यहां से जीत पाना बेहद कठिन है।

संभवत इसी को देखते हुए कांग्रेस ने राहुल गांधी को दो जगह से चुनाव लड़ाने का फैसला किया है, ताकि एक जगह चुनाव हार जाए तो दूसरी जगह से जीतकर कांग्रेस के अध्यक्ष की इज्जत को बचाया जा सके।

राहुल गांधी को वायनाड से चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद लेफ्ट हमलावर हो गई है। सीपीएम के पूर्व महासचिव प्रकाश करात ने कहा है कि केरल में भारतीय जनता पार्टी का कोई अस्तित्व नहीं है, ऐसी स्थिति में कांग्रेसी अध्यक्ष राहुल गांधी के द्वारा वायनाड से चुनाव लड़ना सीधे तौर पर लेफ्ट को चुनौती है।

इसके साथ ही केरल के मुख्यमंत्री पीनाराई विजयन ने भी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी को वायनाड से हराकर भेजने की कसम खाई है। सीपीएम के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सीधे तौर पर एलडीएफ के खिलाफ चुनाव लड़ने जा रहे हैं।

उन्होंने यह भी कहा है कि बीजेपी का केरल में कोई अस्तित्व ही नहीं, ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा यहां से चुनाव लड़ना सीधे तौर पर लेफ्ट पार्टी के खिलाफ हमला है और हम सब राहुल गांधी को हराकर भेजने की कसम खाते हैं।

आपको बता दें कि राहुल गांधी उत्तर प्रदेश के अमेठी के अलावा केरल के वायनाड से भी चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुके हैं। इससे पहले कांग्रेस के सीनियर नेता ए के एंटनी ने यहां से चुनाव लड़ने का ऐलान किया था।

लेकिन कुछ ही देर बाद कांग्रेस की तरफ से राहुल गांधी के द्वारा वायनाड से लोकसभा चुनाव लड़ने का ऐलान करने के पर स्थिति साफ हो गई। अब लेफ्ट कांग्रेस के खिलाफ हो गई है।

आपको याद दिला दें कि केरल में सीपीएम का गढ़ है। यहां पर सीपीएम के अभी सरकार है। पूरे देश में सीपीएम को बीजेपी और अन्य पार्टियों द्वारा साफ किया जा चुका है। ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष का यहां से चुनाव लड़ना लेफ्ट पार्टी को पच नहीं रहा है।