Jaipur

राजस्थान की सबसे पुरानी और सबसे बड़े सरकारी विश्वविद्यालय यानी राजस्थान यूनिवर्सिटी में लगातार चौथे साल अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और एनएसयूआई को मात खानी पड़ी है।

2016 में ABVP बागी उम्मीदवार के अंकित धायल के द्वारा शुरू हुई यह परंपरा बदस्तूर जारी है।

राजस्थान विश्वविद्यालय से पूजा वर्मा अध्यक्ष, लगातार चौथे साल निर्दलीय का परचम 1

साल 2017 में एबीवीपी के ही भाग्य उम्मीदवार पायल में बड़ी जीत दर्ज की। इसके बाद 2018 में एनएसयूआई से बगावत कर प्रत्याशी बने विनोद जाखड़ ने एबीवीपी और एनएसयूआई के प्रत्याशियों को हराया।

इस बार अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के अमित कुमार बड़बड़वाल (2975) और एनएसयूआई के उत्तम चौधरी (3214) को मात देकर एनएसयूआई से टिकट नहीं मिलने से नाराज निर्दलीय प्रत्याशी बनी पूजा वर्मा (3890) ने करारी शिकस्त दी।

राजस्थान विश्वविद्यालय से पूजा वर्मा अध्यक्ष, लगातार चौथे साल निर्दलीय का परचम 2

राजस्थानी विश्वविद्यालय के अपेक्स महासचिव पद पर एनएसयूआई के महावीर प्रसाद गुर्जर ( ने जीत दर्ज की है। इसी के साथ उपाध्यक्ष के पद पर एनएसयूआई की उम्मीदवार प्रियंका मीणा (4325) ने जीत हासिल की है।

संयुक्त सचिव के पद पर एबीवीपी की किरण मीणा (5104) जीतने में कामयाब रही है।

राजस्थान विश्वविद्यालय से पूजा वर्मा अध्यक्ष, लगातार चौथे साल निर्दलीय का परचम 3

लॉ कॉलेज से अध्यक्ष पद पर राजेंद्र गोरा, इवनिंग लॉ कॉलेज से शुभम, महाराज कॉलेज से राहुल यादव, महारानी से आकृति तिवाड़ी, राजस्थान कॉलेज रोशन मीणा, कॉमर्स कॉलेज से गुलशन मीणा विजयी रहे हैं।

शोध छात्र प्रतिनिधि के पद पर कल्पेश चौधरी ने अपने प्रतिद्वंदी विक्रम थालोर को हराया।