मायावती को सताने लगा 2008 का दौर, उठाया बड़ा कदम

mayawati bsp
mayawati bsp

-मायावती ने बसपा के सभी 6 विधायकों को बुलाया, 2008 में भी थे 6 विधायक, सभी ने ज्याइन कर ली थी कांग्रेस

जयपुर। बहुजन समाज पार्टी को फिर से 2008 का दौर सताने लगा है। शायद इसलिए बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपने सभी 6 विधायकों को बुलाया है।

आज उनकी 12 बजे मायावती के साथ मीटिंग हुई। जिसमें विधायकों को किसी भी पार्टी विरोधी गतिविधि में शामिल होने या किसी पार्टी के द्वारा दिए जाने वाले प्रलोभनों से दूर रहने की हिदायत दी गई है।

बताया जा रहा है कि राजस्थान में जारी सियासी उठापटक के बीच मायावती ने 28 मई को ही बसपा विधायकों को एक उनके पास मिलने के निर्देश दिए थे।

जिसके बाद सुबह ही बसपा विधायकों ने दिल्ली का रुख किया। यहां पर मायावती के आवास पर मीटिंग हुई।

सूत्रों का दावा कि है कि बीते कुछ दिनों से कांग्रेस पार्टी के द्वारा बसपा का विलय कांग्रेस में करने के प्रयास किए जा रहे थे, जिसकी सूचना मायावती तक पहुंची तो उन्होंने पहले सभी विधायकों को चेतावनी दी।

उससे भी जब मामला शांत होता हुआ नजर नहीं आया, तो मायावती ने उनको मिलने के लिए बुला लिया।

2008 में यह हुआ था

याद दिला दें कि 2008 में भी कांग्रेस की गहलोत सरकार अल्पमत में थी। तब बसपा के 6 विधायक थे और कांग्रेस के पास 96 एमएलए।

कांग्रेस को सरकार बचाने के लिए 200 विधानसभा क्षेत्र वाले सदन में 101 एमएलए चाहिए थे। पार्टी के पास 5 विधायक कम पड़ रहे थे।

ऐसे में कांग्रेस ने संविधान के दायरे में बसपा के सभी 6 विधायकों को पार्टी मेंं शामिल कर लिया था। बताया जाता है कि इसी तरह के प्रयास अभी भी जारी हैं।

यह भी पढ़ें :  राज्य में सत्ता परिवर्तन का ड़र यहां तक पहुंचा