खींवसर से विधायक की दौड़ में रामेश्वर डूडी भी, क्या चल रहे हैं समीकरण?

hanuman beniwal rameshwar dudi
hanuman beniwal rameshwar dudi

जयपुर।
राजस्थान जिन दो विधानसभा सीटों के विधायक सांसद बन गए हैं, उनमें उम्मीदवारी को लेकर खींचतान शुरू हो गई है। हालांकि, यह हलचल अभी कार्यकर्ताओं तक सीमित है।

लेकिन जिस तरह के समीकरण सामने आ रहे हैं, उससे कहा जा सकता है कि उप चुनाव में यहां पर प्रत्याशी चयन को लेकर पार्टियों के बीच रस्साकशी चलने वाली है।

खींवसर से विधायक हनुमान बेनीवाल नागौर से सांसद चुने जा चुके हैं। इसी तरह से झुंझुनू के मंडावा से विधायक नरेंद्र खींचड़ भी जिले की संसदीय सीट से लोकसभा में जा चुके हैं।

ऐसे में इन दोनों ही सीटों से विधायक के लिए अगले छह माह के भीतर चुनाव आयोग का उप चुनाव करवाने हैं। खींवसर सीट पर जहां आधा दर्जन उम्मीदवार भाजपा—रालोपा के सामने आ रहे हैं, वहीं मंडावा की अभी कोई चर्चा नहीं है।

बताया जा रहा है कि भाजपा और रालोपा के संयुक्त टिकट पर खींवसर से पूर्व सांसद सीआर चौधरी, नारायण बेनीवाल, पीरदान सिंह राठौड़ के अलावा कांग्रेस के नेता रामेश्वर डूडी का नाम भी उछाला जा रहा है।

हालांकि, अभी इस बारे में किसी भी बड़े नेता का कोई बयान सामने नहीं आया है, किंतु जिस तरह से सोशल मीडिया पर समर्थकों द्वारा अफवाह फैलाई जा रही है, वह किसी न किसी रुप में सच्चाई के करीब जाती हुई दिखाई दे रही है।

नागौर में समीकरण इस चुनाव के बाद बदल चुके हैं। बताया जा रहा है कि कभी जाट—राजपूत समाज के बीच कटुता बढ़ाने के लिए नागौर ही सबसे आगे था, लेकिन हनुमान बेनीवाल की पहल पर पहली बार दोनों जाातियों ने एक उम्मीदवार को वोट देकर मिशाल पेश की है।

यह भी पढ़ें :  वसुंधरा के प्रेस सलाहकार महेंद्र ने माना, राजे की "बाहर" जाने की राह कांटों भरी

इन जातियों के मतदाताओं ने न केवल नागौर में, बल्कि जयपुर ग्रामीण, सीकर, बाड़मेर, पाली, जोधपुर, अजमेर, राजसमंद और बीकानेर जैसे जिलों में एक—दूसरे को वोट देने का काम किया है।

बहरहाल, खींवसर से उम्मीदवारी को लेकर तरह तरह के कयास चल रहे हैं, लेकिन जब चुनाव आयोग तारीख का ऐलान नहीं करेगा, तब तक किसी तरह की अफवाह को तवज्जो नहीं दी जा सकती।