बाला साहेब ठाकरे का स्थान लेंगे राज ठाकरे, उद्धव ठाकरे फिसल गए हैं!

Mumbai news

महाराष्ट्र में भले ही ठाकरे परिवार की विरासत को संभालते हुए उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बनने में सफल हो गए हैं, लेकिन वहां के मराठा मानस में अब उनके लिए धीरे-धीरे इज्जत कम होती जा रही है।

इसी का फायदा उठाते हुए बालासाहेब ठाकरे के भतीजे और उम्र हिंदू नेता राज ठाकरे आगे बढ़ने का प्रयास कर रहे हैं। राज ठाकरे ने गुरुवार को अपने 27 वर्षीय बेटे को भी राजनीति में लॉन्च कर दिया है।

बालासाहेब ठाकरे की तीसरी पीढ़ी की विरासत संभालने वाले यह दूसरे नेता होंगे। असल में बालासाहेब ठाकरे को महाराष्ट्र में हिंदू हृदय सम्राट के तौर पर लोग याद करते हैं, लेकिन जिस तरह से भारतीय जनता पार्टी के साथ 30 साल पुराना नाता तोड़ते हुए उद्धव ठाकरे और उनके बेटे आदित्य ठाकरे ने कांग्रेस और राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के साथ हाथ मिलाकर सरकार बनाई।

उसके बाद शिवसेना के समर्थकों में ही भारी गुस्सा है। बताया तो यहां तक जा रहा है कि शिवसेना के 35 विधायक इस सरकार का हिस्सा बनने के बाद काफी नाखुश हैं।

दूसरी तरफ हमेशा कट्टर हिंदू बनकर सिरे से खारिज कर दिए गए राज ठाकरे धीरे-धीरे उभरने लगे महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के नाम से अपनी अलग राजनीतिक पार्टी बनाकर राज ठाकरे महाराष्ट्र में जड़े जमाने में लगे हुए हैं।

जब से भाजपा ने शिवसेना के साथ करार खत्म किया है, तब से राज ठाकरे भाजपा के साथ जुड़ने को आतुर बैठे हैं।

भाजपा ने रणनीति के तहत शिवसेना के साथ करार खत्म किया है तो इसके साथ ही उन्होंने वहां के स्थानीय मराठा को तैयार करने के लिए राज ठाकरे का समर्थन शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़ें :  गहलोत के मंत्रियों को टीवी पर नोटों के बंडल लेते हुए पूरे देश ने देखा-मुख्यमंत्री

देखना दिलचस्प होगा कि अब महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की वर्तमान सरकार पूरे 5 साल निकाल पाती है या नहीं, लेकिन इसके साथ ही साथ भाजपा और मनसे के रूप में नया गठबंधन सामने आ सकता है।