मोदी टीवी पर आकर करते हैं ध्यान मोड़ने की राजनीति : कमल नाथ

मोदी टीवी पर आकर करते हैं ध्यान मोड़ने की राजनीति : कमल नाथ

[ad_1]

सतना, 5 जनवरी (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ ने सतना जिले में जय किसान फसल ऋण माफी योजना के दूसरे चरण के हितलाभ वितरण कार्यक्रम में रविवार को केंद्र सरकार के नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर हमला बोला और कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर घंटे टीवी पर आकर जनता का ध्यान मोड़ने की राजनीति करते हैं।
यहां के बीटीआई ग्राउंड में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने सीएए को देश के खिलाफ बताया और कहा कि यह ऐसा कानून है, जिसमें हर व्यक्ति को अपने बारे में बताना होगा। उन्होंने मंच पर मौजूद राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा और चित्रकूट के विधायक नीलांशु चतुर्वेदी से मजाकिया लहजे में पूछा, आप हिंदू हैं, इसका क्या सबूत है?

कमल नाथ ने प्रधानमंत्री पर समस्याओं से जनता का ध्यान हटाने की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा, प्रधानमंत्री मोदी हर घंटे टीवी पर आते हैं और देश की जनता का ध्यान मोड़ने की राजनीति करते हैं। वे कांग्रेस को राष्ट्रीयता का पाठ पढ़ाने आए हैं, वे अपनी पार्टी से एक भी नाम बता दें, जिन्होंने स्वतंत्रता संग्राम में भाग लिया हो।

मुख्यमंत्री ने देश की अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर प्रधानमंत्री पर हमला बोला। उन्होंने कहा, हमारे देश की अर्थव्यवस्था का क्या हाल है, इसकी चिंता मोदी सरकार को नहीं है।

राज्य सरकार द्वारा विभिन्न वर्गो के लिए किए जा रहे कामों का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि युवाओं के भविष्य को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से रोजगार के क्षेत्र में मध्यप्रदेश इतिहास रचेगा। सर्वहारा वर्ग के हित संवर्धन के क्षेत्र में विभिन्न योजनाएं एवं कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  रालोपा के सहाड़ा से बद्रीलाल जाट, राजसमंद से प्रह्लाद खटाना

उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों के विकास के लिए कार्य किए जा रहे हैं। प्रदेश की 70 प्रतिशत जनता कृषि क्षेत्र से जुड़ी हुई है। सरकार ने प्रदेश के 21 लाख किसानों की ऋणमाफी कर वचन पूरा किया है। प्रदेश में किसानों की भलाई के लिए ऋणमाफी के साथ उपज का पर्याप्त मूल्य देने के कार्य किए जा रहे हैं।

कार्यक्रम में राज्य सरकार के मंत्री लखन घनघौरिया व कमलेश्वर पटेल ने सरकार की योजनाओं और बीते एक साल में जनहित में लिए गए फैसलों का ब्यौरा दिया।

–आईएएनएस

[ad_2]