प्रधानमंत्री मोदी ने यह करके रच दिया इतिहास, 21 अक्टूबर रहेगी हमेशा याद-

4
- Advertisement - dr. rajvendra chaudhary

नई दिल्ली।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीते 4 साल में नित्य नया इतिहास रचने जा रहे हैं। आज पीएम मोदी ने नई दिल्ली में लाल किले पर तिरंगा फहराने और भाषण देकर एक और नया इतिहास रच डाला।

सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद सरकार के 75वें स्थापना दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐतिहासिक लाल किले की प्राचीर पर झंडा फहराने के बाद कांग्रेस पार्टी और गांधी परिवार पर जमकर हमले बोले।

अब तक लाल किले की प्राचीर पर भारत के किसी भी प्रधानमंत्री द्वारा केवल 15 अगस्त के अवसर पर ही तिरंगा फहराने और भाषण देने की परंपरा रही है, लेकिन पीएम मोदी ने इस परंपरा को तोड़ते हुए हिस्ट्री लिख दी।

आजाद हिंद सरकार की स्थापना के 75वें दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न केवल सुभाष चंद्र बोस की तारीफ है कि, बल्कि उन्होंने कहा कि अगर आजादी के बाद सरदार वल्लभ भाई पटेल और भीमराव अंबेडकर जैसों को सुभाष चंद्र बोस जैसे लोगों का सहयोग मिलता तो देश की तस्वीर कुछ और ही होती।

सुभाष चंद्र बोस की किताब में किए गए जिक्र का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि ब्रिटेन और यूरोप में पढ़ने वाले भारतीय हमेशा यही मानते थे, कि यूरोप और ब्रिटेन ही बहुत बड़े हैं। यहां जो हो रहा है, वही सर्वश्रेष्ठ है, लेकिन भारत को समझने के लिए भारत की सरकार चाहिए थी, जिसकी स्थापना सुभाष बाबू ने की।

कांग्रेस पार्टी और गांधी परिवार पर हमला करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश को आजाद होने के बाद केवल एक परिवार की पूजा की गई, जबकि देश की आजादी और विकास में हजारों योद्धाओं का परिश्रम है, जिसको भुला दिया गया है। हम भीमराव अंबेडकर सुभाष चंद्र बोस जैसे लोगों को और सरदार पटेल जैसे देश को एक करने वाले नेताओं को उनके द्वारा किए गए कार्यों के लिए हमेशा हमेशा याद करते रहेंगे।

इस मौके पर प्रधानमंत्री ने सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद सरकार के द्वारा देश में पहली बार भारत की खुद की सरकार बनाए जाने की बात कहते हुए उसे सरकार कि आज देश में आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा की सुभाष बाबू ने देश की खुद की सरकार बनाई थी।