Jaipur

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने धारा 370 और अनुच्छेद 35ए हटने के बाद आज राष्ट्र के नाम अपने संबोधन दिया।

प्रधानमंत्री मोदी ने करीब आधे घंटे के अपने संबोधन में कहा कि जम्मू कश्मीर और लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद अब केंद्र की समस्त योजनाएं सीधे लागू हो सकेगी।

वहां पर पहले की भांति ही मुख्यमंत्री, मंत्री परिषद और विधायक चुने जाएंगे। वहां की विधानसभा होगी और हालात सुधरने और सामान्य होने के बाद बेहद निकट भविष्य में जम्मू-कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा दे दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के निवेशकों से आग्रह किया कि आप जम्मू कश्मीर और लद्दाख ने अपने उद्योग धंधे स्थापित करें और वहां की युवाओं को रोजगार उपलब्ध करवाने का काम करें।

मोदी ने बॉलीवुड, तेलुगु और तमिल फिल्म इंडस्ट्री सहित तमाम फिल्म इंडस्ट्री के लोगों से अपील करते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर और लद्दाख में फिल्म की शूटिंग करें, वहां पर स्टूडियो स्थापित करें और काम धंधे को बढ़ावा दें, ताकि जम्मू कश्मीर के जो युवा सदियों से पिछड़ गए हैं, उनको आगे आने का मौका मिल सके।

प्रधानमंत्री ने इसके साथ ही देशवासियों से भी अपील की है कि 130 करोड़ देशवासी और जम्मू-कश्मीर के करीब डेढ़ करोड़ देशवासी मिलकर नए जम्मू कश्मीर और नए लद्दाख का निर्माण करेंगे, जिससे देश का मुकुट फिर से दुनिया में जन्नत की तरह बन सकेगा।

परोक्ष रूप से पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा है कि अलगाववाद और आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए धारा 370 का बेजा इस्तेमाल हुआ है।

3 परिवारों ने वहां पर राज किया है और अपनी सल्तनत स्थापित की है, लेकिन अब धारा 370 हटाने के बाद जम्मू कश्मीर का प्रत्येक नागरिक ने केवल वोट देने का अधिकारी होगा, बल्कि वहां की युवा जो अब तक वोटिंग से वंचित थे और चुनाव नहीं लड़ पा रहे थे, उनके लिए भी स्वर्ण अवसर शुरू हो चुका है।

प्रधानमंत्री ने लद्दाख में सौर ऊर्जा और जैविक खेती को भी महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर का चाहे सेव हो या फिर केसर दुनिया भर में आज भी प्रसिद्ध है और इसको अब नहीं पहचान मिल सकेगी।

PM मोदी:जम्मू कश्मीर और लद्दाख में बड़े पैमाने पर 1

इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीते तीन दशक में जम्मू कश्मीर में जान गंवाने वाले करीब 42000 लोगों को याद करते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर संपूर्ण, विकसित और सांस्कृतिक पूर्ण प्रदेश बनाने के लिए जिन लोगों का सपना था, वह पूरा होने जा रहा है।

उन्होंने इसके साथ ही कहा कि जम्मू-कश्मीर के जिन युवाओं ने सेना और अर्ध सेना में शामिल होकर जम्मू कश्मीर की रक्षा की है, उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा।

वर्तमान में जो सैनिक और अर्धसैनिक बल के जवान जम्मू कश्मीर की सुरक्षा कर रहे हैं, उनका भी नरेंद्र मोदी ने आभार जताया।

जम्मू कश्मीर की जनता से आह्वान करते हुए मोदी ने कहा कि वहां की जनता जिस तरह से आतंकवाद और अलगाववाद का मुंहतोड़ जवाब दे रही है और धारा 370 के बाद जिस तरह से खुश है, वह प्रदेश के भविष्य में विकास के लिए बहुत अच्छी बात है।

हालात सामान्य होने पर जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश से राज्य बनाने का दावा करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि जैसे ही जम्मू कश्मीर में सब कुछ सामान्य होगा और विकास की रफ्तार बन जाएगी, तब उसको राज्य बना दिया जाएगा।

हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया कि लद्दाख केंद्र शासित बना रहेगा।

संसद में बिल पारित होने के वक्त जिन लोगों ने बिल के विरोध में वोट दिया, उनके विरोध को भी बुलाते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम सब 130 करोड़ भारतीय मिलकर जम्मू कश्मीर और लद्दाख के विकास के लिए काम करेंगे।