New delhi

जम्मू कश्मीर में बड़ी संख्या में तैनात की सेना अर्ध सैनिक बल बीएसएफ सीआईएसएफ के सुरक्षाबलों के बाद न केवल कश्मीर में राजनीति करने वालों के पसीने छूट रहे हैं, बल्कि पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की भी कंपकंपी छूट रही है।

शुक्रवार के दिन भारतीय सेना के द्वारा पाकिस्तान के कश्मीर वाले हिस्से में 30 किलोमीटर अंदर दागे गए क्लस्टर बम के बाद पाकिस्तान की तरफ से कई वीडियो सामने आए हैं, जिन से साफ जाहिर है पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में स्थिति सामान्य नहीं है और इससे पाकिस्तान की आम आवाम बेहद डरी हुई महसूस कर रही है।

यहां पर क्लिक करके देखिए संबंधित वीडियो

हालांकि, भारतीय सेना ने इस बात से इनकार किया है कि पीओके में भारत के द्वारा क्लस्टर बम छोड़े गए हैं, लेकिन जिस तरह से जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने स्वीकार किया है कि कश्मीर में बोफोर्स होवित्जर तोप तैनात की गई है, उससे साफ है कि गृह मंत्री अमित शाह के निशाने पर कश्मीर नहीं पाकिस्तान के आतंकी ठिकाने भी है।

शनिवार को ही सामने आया है कि भारतीय सेना के द्वारा पीओके में, जहां पर जेलम नीलम नदी कर पाकिस्तान को विद्युत सप्लाई करने वाला बांध बना हुआ है वहां पर क्लस्टर बम गिराया गया है। इस हमले में कई आतंकवादी ठिकाने नष्ट होने की बात सामने आई है।

आपको बता दें कि जम्मू कश्मीर में 1954 से लागू की गई धारा 370 35a को हटाने की चर्चा जोरों पर है और ऐसे वक्त में भारत सरकार के द्वारा जम्मू-कश्मीर में करीब सवा लाख नए सैनिक तैनात किए जाने के बाद पाकिस्तान के हौसले पस्त हैं।

आतंकवादी गतिविधियों की बात कहते हुए भारत सरकार ने कश्मीर से अमरनाथ यात्रा को रद्द कर दिया है और सभी यात्रियों को एअरलिफ्ट किया जा रहा है।

दूसरी तरफ जम्मू कश्मीर में सभी पर्यटकों को जल्द से जल्द राज्य की सीमा छोड़ने को कहा गया है।

दूसरे राज्यों से जम्मू कश्मीर में पढ़ने वाले सभी छात्र-छात्राओं को भी अपने अपने गृह राज्य लौटने के निर्देश दे दिए गए हैं।

जम्मू कश्मीर की तमाम बड़ी गतिविधियों के चलते पाकिस्तान की हालत खराब हो रही है। वहां के आम नागरिक खासतौर से जो पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में रहते हैं उन्होंने ख्वाब का माहौल है।

भारतीय सेना ने साफ इंकार कर दिया है कि भारत के तरफ से पाकिस्तान के आम आवाम पर कोई हमला किया जा रहा है।

यह बात और है कि भारतीय सेना ने पीओके में स्थित आतंकवादी ठिकानों और आतंकवादियों को समर्थन देने वाली पाकिस्तानी सेना पर हमला करने की बात स्वीकार की है।