f16 fighter aircraft

नई दिल्ली।

पाकिस्तान ने दावा किया है कि जो विमान भारतीय वायु सेना ने उड़ाया था, वह MI-17 था, F16 नहीं था। दरअसल, पाकिस्तान भारत के खिलाफ F16 से हमला कर ही नहीं सकता।

अमेरिका के द्वारा पाकिस्तान को F16 लड़ाकू इमान देते वक्त यह एमओयू किया गया था, कि इस विमान का इस्तेमाल केवल अफगानिस्तान में तालिबान के ऊपर किया जा सकता है, भारत के ऊपर कतई नहीं।

आपको बता दें कि आज ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के द्वारा पाकिस्तान की संसद में इस बात की जानकारी दी गई कि कल पाक सीमा में मिग-21 गिरने के साथ गिरे भारत के विंग कमांडर अभिनंदन को कल भारत भेज दिया जाएगा।

यह केवल भारत की वायुसेना की ताकत नहीं थी, भारतीय सरकार की कूटनीतिक ताकत नहीं थी, बल्कि साथ ही साथ अमेरिका द्वारा बनाया गया दबाव भी था, जो कहीं ना कहीं भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच मधुर संबंधों का नतीजा है।

दरअसल, कल पाकिस्तान के द्वारा जब यह दावा किया गया कि कि भारत के दो विमान मार गिराए हैं, और उनका कोई एयरक्राफ्ट नहीं मारा गया है, तब भारत ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सामने पाकिस्तान के मारे गए f16 के नमूने पेश कर दिया, जिससे पड़ोसी मुल्क की की पोल खुल गई।

इधर, भारत सरकार के द्वारा बताया गया है कि कल विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तान हमारे हवाले कर देगा। अभिनंदन कल मिग-21 के साथ पाकिस्तान की सीमा में गिर गए थे।

आपको बता दें कि 1999 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए कारगिल युद्ध के दौरान भी भारत के विंग कमांडर नचिकेत पाकिस्तान के गिरफ्त में चले गए थे, उनको पड़ोसी मुल्क ने 8 दिन बाद रिहा किया था।

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के द्वारा पुलवामा हमले के बाद यह तीसरा अवसर है जब वह भारत के साथ जंग के बजाय बातचीत के द्वारा मसले को हल करने की बात कह रहे हैं, उन्होंने आज भी पाकिस्तान की संसद में भारत सरकार को वार्ता करने का न्योता दिया है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।