पिछले दिनों संसद में किसानों से संबंधित तीन विधेयक पारित किए गए सब जानते हैं कि भारतीय जनता पार्टी और उससे पहले जनसंघ विपक्ष के नाते भी और जब-जब सकता है और शासन के नाते भी वाजपेई साहब की सरकार के समय भी किसानों की दशा सुधारने के लिए बेहतरीन काम हुए इसमें किसान क्रेडिट कार्ड एक बड़ी उपलब्धि और क्रांतिकारी कदम था किसानों के हित में आज देश के करोड़ों किसान किसान क्रेडिट कार्ड की सुविधा ले रहे हैं इसी तरीके से फसल बीमा योजना ऐसी महत्वाकांक्षी योजना है जिसका लाभ देश के किसानों को निरंतर होता रहा है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी 2014 से 2019 के कालखंड में कॉल टेस्टिंग और नीम कोटेड यूरिया फसल बीमा योजना पीएम सम्मान किसान निधि ऐसे अनेकों क्रांतिकारी फैसले किए और लगातार देश के किसानों की दिशा और दशा सुधारने के लिए अनेकों फैसले किए हैं तीनों क्रांतिकारी फैसले किए और लगातार इस देश की दिशा और दशा सुधारने के लिए लगातार प्रेरित है पिछले दिनों तीन बिल लोकसभा में आए अमेंडमेंट ऑफ एसेंशियल कमोडिटीज, द फार्मर से प्रोड्यूज ट्रेड एंड कमर्स और द फार्मर एंपावरमेंट प्रोटेक्शन एंड एग्रीमेंट ऑन प्राइस एश्योरेंस यह तीनों विधायक किसानों की तस्वीर और तकदीर बदलने के लिए लाए गए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने हमेशा किसानों गरीबों वंचित और शोषित ओं के उत्थान के लिए योजनाएं बनाई और सब जानते हैं कि बुनियादी योजनाओं के माध्यम से किस तरह से आमजन को लाभ हुआ और प्रधानमंत्री जी का एक उद्देश्य से यह सब समाज की मुख्यधारा में आएं। तीनों बिल किसानों की भलाई के लिए है लेकिन कांग्रेस सदन में उसका विरोध करेंगे कि कांग्रेस के दौड़े चरित्र को दिखाता है हर चीज में राजनीति करना यह कांग्रेस की आदत हो गई है मैं यह स्पष्ट करना चाहूंगा कि सरकार केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी स्पष्ट कर चुकी है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य था है और रहेगा न्यूनतम समर्थन मूल्य इसका अस्तित्व रहेगा और भविष्य में देखेंगे कि किसानों के उत्पाद के दाम तेजी से बढ़ने में सहायक होंगे एक तरफ तो कांग्रेस पार्टी घोषणा पत्र में किसानों के कृषि सुधारों की बात करती है दूसरी तरफ उन्ही सुधारों का विरोध करती है किसानों को बरगला आती है झूठ बोलती और देश को गुमराह करती है यह वही पार्टी है आपको याद हो तो 2013 14 के दौरान कर्नाटक ने मेघालय में हरियाणा में हिमाचल में फ्रूट और वेजिटेबल की एमएसपी को डिफाइन कर रही थी तीनों विधायक दूरदृष्टि वाले विधायक हैं किसानों को सुविधाएं देने का प्रयास है ताकि किसान अपनी फसल को आसानी से भेज सकें कहीं भी भेज सकें और अपने द्वारा निर्धारित दामों पर भेज सकें दूसरा जो बिल है वह कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के सभी बाधाओं को दूर करने का प्रेम सिंह का काम करेगा तीसरा जो बिल है उसमें कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग को लेकर जो विरोधाभास था उसको स्पष्ट करती है इस दिल में बताया गया है कि जो किसान की जमीन पर करेगा जमीन की और किसान जमीन की जाएगी और उनके बीच में जो एग्रीमेंट होगा वह प्रोडक्ट आधारित होगा जमीन आधारित नहीं होगा इससे किसान के प्रोडक्ट निर्धारित होगा उसकी कीमत निर्धारित होगी मैं यह मानता हूं कि यह तीनों ही विधायक किसान को तरक्की देने वाले मजबूती देने वाले और उसको ताकत देने वाले और भारतीय जनता पार्टी इन तीनों को यह मानती है कि क्रांतिकारी कदम है और किसानों को समर्पित है कांग्रेस की तरफ से इसका विरोध प्रायोजित है और कतई उचित नहीं कहा जा सकता है।

यह भी पढ़ें :  अंतर्जातीय प्रेम विवाह : बिहार में लड़के के चाचा की गोली मारकर हत्या