REET अभ्यर्थियों के लिए विधानसभा में खड़ा हुआ सबसे कम उम्र का विधायक

जयपुर।

प्रदेश के 26 हज़ार से ज्यादा चयनित अभ्यार्थियों के लिए जल्द ही खुशखबरी मिलने की संभावना है। इस मामले में राजस्थान हाई कोर्ट में चल रही सुनवाई आज पूरी हो गई, कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है।

राजस्थान एलिजिबल एंट्रेंस टेस्ट (REET) के बाद चयनित अभ्यर्थियों को जोइनिंग देनी है। इस प्रकरण को लेकर कुछ अयोग्य हुए उम्मीदवारों द्वारा कोर्ट में याचिका दाखिल किए जाने के कारण इन 26 हज़ार से ज्यादा थर्ड ग्रेड टीचर्स को जोइनिंग का इंतज़ार है।

राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के अध्यक्ष उपेन यादव ने बताया कि मामले की सुनवाई के लिए राज्य सरकार ने महाधिवक्ता महेंद्र सिंह सिंघवी को पक्ष रखने के लिए नियुक्त किया है। राज्य सरकार की तरफ से एडवोकेट के द्वारा बेरोजगारों के पक्ष में पुरजोर तरीके से दलीलें पेश की गई। उसके बाद कोर्ट ने सुनवाई पूरी करते हुए फैसला सुरक्षित रख लिया है।

इस मामले को लेकर शुक्रवार को विधानसभा में भारतीय ट्राईबल पार्टी (BTP) के विधायक राजकुमार रोत ने मामला उठाने का प्रयास किया, लेकिन विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के द्वारा नियमों के तहत बात रखने का हवाला देते हुए उनको बिठा दिया।

आपको बता दें कि भारतीय ट्राईबल पार्टी ने पहली बार राज्य विधानसभा में जीत हासिल की है। पार्टी के दो विधायक जीत कर आए हैं, जिनमें एक राजकुमार रोते हैं। राजकुमार ना केवल बीटीपी के पहले विधायक बने हैं, बल्कि वर्तमान विधानसभा में सबसे कम उम्र (26 साल) के सदस्य भी हैं।

राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान राजकुमार रोत ने रीट अभ्यर्थियों का मामला उठाते हुए कहा कि प्रदेश के 26 हज़ार योग्य बेरोजगार कई महीनों से केवल जॉइनिंग के इंतजार में हैं। उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष से राज्य सरकार को निर्देश देकर बेरोजगारों को जॉइनिंग दिलाने की मांग की थी।

यह भी पढ़ें :  ऑल इंडिया पब्लिक सेक्टर बैडमिंटन प्रतियोगिता 2019-20 का आयोजन मंगलवार से जयपुर में