फिल्म की रिलीज में बाधाओं से परेशान फिल्मकार ने इमरान से लगाई गुहार

फिल्म की रिलीज में बाधाओं से परेशान फिल्मकार ने इमरान से लगाई गुहार

[ad_1]

लाहौर, 17 जनवरी (आईएएनएस)। पाकिस्तान के प्रसिद्ध फिल्मकार सरमद खूसट अपनी निर्देशित फिल्म जिंदगी तमाशा की रिलीज में आ रही बाधाओं को लेकर परेशान हैं। कुछ कट्टरपंथी तत्वों द्वारा उनकी फिल्म को रिलीज नहीं करने को लेकर उन पर और उनकी टीम पर दबाव बनाया जा रहा है और इसकी रिलीज को रुकवाने के लिए कोशिशें की जा रही हैं।

इससे परेशान सरमद ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का मुद्दा उठाते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान को खुला पत्र लिखकर मदद की गुहार लगाई है।

सरमद ने ट्विटर पर इमरान को संबोधित करते हुए लिखा, 24 जनवरी को फिल्म रिलीज होनी है। लेकिन फिल्म के एक ढाई मिनट के ट्रेलर के आधार पर कुश शंकाओं को जताते हुए एक शिकायत फिल्म लेखक, निर्माता और मेरे खिलाफ दर्ज करा दी गई।

उन्होंने लिखा है, एक कानून का पालन करने वाले नागरिक और पक्के विश्वास के साथ कि फिल्म में कुछ भी आहत करने वाला नहीं है, मैंने फिल्म को एक और समीक्षा के लिए सेंसर बोर्ड को सौंप दिया। शिकायतकर्ताओं को खुश करने के लिए कुछ कट के साथ फिल्म को फिर सेंसर बोर्ड से मंजूरी मिल गई। मैंने फिल्म की प्रचार सामग्री को लांच कर दिया। और, अब फिल्म की रिलीज के महज एक हफ्ता पहले फिर कुछ समूहों द्वारा मेरी फिल्म की रिलीज को रुकवाने की कोशिश की जा रही है। और, इस बार वे हर तरह का दबाव डालने पर आमादा हैं।

ट्वीट में सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा को भी टैग करते हुए उन्होंने लिखा, मैं आपके ध्यान में यह मामला इसलिए ला रहा हूं कि केवल मुझे और मेरी टीम को धमकाया ही नहीं जा रहा है बल्कि यह घटनाक्रम सेंसर बोर्ड जैसे एक राज्य संस्थान की हैसियत व अधिकार को भी घटा रहा है। तार्किक व कलात्मक सोच और अभिव्यक्ति को कुछ शरारती तत्वों द्वारा अपने राजनैतिक हितों को साधने के लिए दबाने नहीं दिया जाना चाहिए और मुझे डर है कि अगर हम इस बार झुके तो ऐसा ही होगा। भवदीय, सरमद सुलतान खूसट।

यह भी पढ़ें :  मप्र में भाजपा 24 जनवरी को सड़कों पर उतरेगी

यह फिल्म एक ऐसे मुस्लिम व्यक्ति की कहानी सुनाती है जो बहुत अच्छे धार्मिक गीत गाता है और जिसे सभी लोग सच्चा मुसलमान मानते हैं। फिर, इससे कुछ ऐसा हो जाता है जो इन्हीं लोगों की नजर में उसे गलत आदमी साबित कर देता है और उसके बाद इस व्यक्ति का संघर्ष शुरू होता है।

–आईएएनएस

[ad_2]