उत्तराखंड में गिरी बर्फ, मैदानी इलाकों में बढ़ाएगी ठंड

उत्तराखंड में गिरी बर्फ, मैदानी इलाकों में बढ़ाएगी ठंड

[ad_1]

देहरादून, 7 दिसंबर (आईएएनएस)। उत्तराखंड में हुई बर्फबारी से मैदानी इलाकों में ठंड और बढ़ेगी। इस ठंड का असर दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब व हरियाणा में भी होगा।
यहां के नारायण आश्रम मार्ग पर छलमाछिलासों से आगे बर्फबारी के कारण यातयात बाधित है। कैलाश मानसरोवर यात्रा मार्ग पर उच्च हिमालयी गांव बर्फ से ढके हुए हैं।

बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के साथ ही प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में रुक-रुक कर हिमपात जारी है। इसके अलावा मसूरी के आसपास धनोल्टी और सुरकंडा की पहाड़ियां भी बर्फ से लदी हैं।

बर्फबारी जोशीमठ-बदरीनाथ-माणा, चमोली-मंडल-ऊखीमठ, घाट-रामणी और कर्णप्रयाग-गैरसैंण मोटर मार्ग अवरुद्ध हो गए हैं। जोशीमठ-मलारी हाईवे पर भी तपोवन से आगे भारी मात्रा में बर्फ जमने से सेना के वाहनों की आवाजाही नहीं हो पा रही है।

पहाड़ों की रानी मसूरी में लगातार 24 घंटे से हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। तापमान में भारी गिरावट होने के कारण लोगों का हाल बेहाल है। मसूरी और धनोल्टी में बर्फबारी के अलर्ट के चलते अतिरिक्त फोर्स की तैनाती की गई है। सीओ मसूरी को मसूरी में कैंप करने को कहा गया है, ताकि सैलानियों को किसी तरह की दिक्कत का सामना ना करना पड़े।

मसूरी में दबाव बढ़ने की स्थिति में दून से ही यातायात मार्ग बदले जाने की तैयारी है। चमोली जिले में एक बार फिर सुदूरवर्ती गांव बर्फ के आगोश में आने से जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हो गया है। जिले में लगभग 80 गांवों में बर्फ की सफेद चादर बिछ गई है। पैदल रास्ते, पानी के स्रोत भी जम गए हैं, जिससे ग्रामीणों को आवाजाही और पीने के पानी की दिक्कत हो रही है।

यह भी पढ़ें :  IAS तन्मय कुमार को अशोक गहलोत ने CMO से निकालकर बीकानेर टिकाया, पढ़िए पूरी खबर-

देहरादून मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि उत्तराखंड में अधिकांश स्थानों पर हल्की से माध्यम बर्फबारी हो सकती है। 1800 मीटर और उससे अधिक ऊंचाई वाले स्थानों में बर्फबारी के आसार हैं।

उन्होंने बताया कि उत्तर भारत पर पश्चिमी विक्षोभ के कारण हिमपात का असर अधिकांश स्थानों में देखने को मिलेगा। उत्तर प्रदेश में भी कुछ स्थानों पर बारिश के आसार बन रहे हैं। इसके अलावा दिल्ली, हरियाणा, पंजाब के कुछ स्थानों पर बारिश होनी की संभावना बन रही है। बारिश से दिल्ली में प्रदूषण जरूर कम होगा।

शीतलहर को देखते हुए उत्तराखंड के मुख्य शिक्षा अधिकारी ने सीबीएसई, आईसीएसई और राज्य बोर्ड से मान्यता प्राप्त सभी स्कूलों को भी पत्र जारी कर शीतकालीन अवकाश बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। यदि इन आदेशों के बावजूद किसी भी स्कूल प्रबंधन ने कक्षा आठ तक की कक्षाएं संचालित करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई के निर्देश भी दिए गए हैं।

मौसम विभाग ने उत्तराखंड के लिए चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि 8 से 9 जनवरी तक 2000 मीटर से अधिक ऊंचे स्थानों पर जाने के मार्ग अवरुद्ध हो सकते हैं। बर्फबारी के कारण सड़कों में फिसलन हो सकती है। इस कारण पर्यटकों को भी सर्तक रहने की सलाह दी गई है।

–आईएएनएस

[ad_2]