JNU में सर्वर रूम को लेकर विवाद हुआ हिंसक, 25 घायल, फिर अखाड़ा बना JNU

जेएनयू में सर्वर रूम को लेकर विवाद हुआ हिंसक

[ad_1]

नई दिल्ली, 5 जनवरी (आईएएनएस)। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में एक बार फिर हिंसा की घटना हुई है। जेएनयू छात्र संघ ने दावा किया है कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने हिंसा को अंजाम दिया है। वहीं, एबीवीपी ने लेफ्ट विंग पर मारपीट करने का आरोप लगाया है। इस हिंसा में करीब 25 छात्रों के घायल होने की खबर है।
जेएनयू में फीस बढ़ोतरी को लेकर लंबे समय से प्रोटेस्ट चल रहा है। बताया जा रहा है कि शनिवार को जेएनयू छात्र संघ ने सर्वर रूम को लॉक कर दिया था इसको लेकर एबीवीपी और लेफ्ट विंग के स्टूडेंट्स में हल्की झड़प हुई थी। रविवार को जेएनयू छात्र संघ की ओर से साबरमती हॉस्टल से मार्च निकाला जाना था। इस दौरान यहां हिंसा हुई।

जेएनयू एबीवीपी प्रेसिडेंट दुर्गेश कुमार ने कहा कि लेफ्ट विंग के छात्रों ने एबीवीपी के छात्रों के साथ मारपीट की है, जो बेहद ही निंदनीय घटना है। रविवार को रजिस्ट्रेशन का आखिरी दिन था। एबीवीपी के छात्र रजिस्ट्रेशन के लिए गए थे, लेकिन इंटरनेट बंद होने के चलते चलते रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाया है।

जेएनयू एबीवीपी प्रेसिडेंट ने कहा कि इसके विरोध में संगठन के छात्र विवेकानंद मूर्ति के पास रजिस्ट्रेशन की मांग कर रहे थे। इस बीच लेफ्ट के लोगों ने आकर एबीवीपी के लोगों पर हमला कर दिया। दुर्गेश ने कहा कि पुलिस कैंपस में नहीं आ रही है। एबीवीपी से जुड़े 11 छात्र भी लापता हैं। हमारी मांग है कि हमें सुरक्षा दी जाए। कैंपस में डर का माहौल है।

— आईएएनएस

यह भी पढ़ें :  तिब्बत : 22 कस्बों और 669 गांवों में डामर सड़क की सेवा उपलब्ध

[ad_2]