जयपुर।
दुनिया में स्वास्थ्य को लेकर काफी आविष्कार किए जा रहे हैं। राजस्थान की राजधानी भी इससे अछूती नहीं रही है।

नए आविष्कार और तकनीक के कारण मरीजों को बिना दर्द के जल्द राहत भी मिल रही है। राजधानी में भी दुनिया की अत्याधुनिक और बेहतरीन तकनीक के सहारे मरीजों के उपचार हो रहा है।

ऐसी ही एक नई तकनीक का नाम है न्यूरो नेविगेशन। इस तकनीक के सहारे दिमाग के काफी गहराई वाले हिस्से में बनी गांठ को भी किसी अन्य पार्ट्स को डेमेज करे बिना निकाला जा सकता है।

राजधानी के मशहूर न्यूरो सर्जन डॉ. राजवेंद्र सिंह चौधरी ने भी इसी तकनीक के सहारे गोवर्धन में मथुरा जिले के रहने वाले 8 साल के गणेश नाम मरीज की शल्य क्रिया करने में सफलता पाई है।

मरीज के पिछले एक साल से दौरे पड़ते थे, यहां जयपुर अस्पताल में लाकर दिखाया गया। जिसके बाद डॉ. चौधरी ने शल्य क्रिया की है। उसके के बाद रोगी अब एकदम स्वस्थ्य है और अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है।

डॉ. चौधरी ने बताया कि इस तकनीक का अब हमारे देश में भी उपयोग होने लगा है।

इस तकनीक के कारण डॉक्टर्स को जहां शल्य क्रिया करने में आसानी रहती है, वहीं दिमाग की कितनी भी गहराई में बनी ब्रेन ट्यूमर की गांठ को सटीकता के साथ निकाला जा सकता है।

तकनीक का इस्तेमाल करने के फायदे बताते हुए डॉ. चौधरी ने बताया कि इससे गांठ को निकालने में किसी अन्य अंग को डेमेज किए बिना 100 फीसदी तक सफलता मिली है, जो अपने-आप में बड़ी कामयाबी है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।