लखनऊ।

देश में पानी के संकट से जूझते लोगों के लिए उत्तर प्रदेश की विधानसभा ने पहल शुरू की है।

यूपी विधानसभा के अंदर प्रत्येक कर्मचारी अधिकारी विधायक मंत्री और यहां तक मुख्यमंत्री को भी केवल आधा गिलास पानी का दिया जाएगा।

अधिक पानी होने के कारण बर्बादी होती है और लोग झूठा पानी फेंक देते हैं, इससे बचने के लिए उत्तर प्रदेश विधान सभा सचिवालय परिसर में जल संरक्षण के तहत अब केवल आधा गिलास पानी मिलेगा।

इसके बाद प्यास अधिक होने पर पानी और लिया जा सकेगा, लेकिन एक बार में केवल आधा गिलास पानी ही दिया जाएगा।

उत्तर प्रदेश विधान सभा सचिवालय के प्रमुख सचिव प्रदीप दुबे ने एक आदेश जारी कर यह निर्देश दिया है।

देश में किसी भी विधानसभा में इस तरह का पहला देश है। गौरतलब है कि भरा गिलास पानी लेने के बाद लोग उसको पूरा पीते नहीं है और आधे को फेंक देते हैं।

इससे शुद्ध जल की बर्बादी हो रही है। इसी बर्बादी को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश विधानसभा ने यह पहल शुरू की है।