पूर्व मंत्री बाबूलाल नागर की फिर हो सकती है गिरफ्तारी, कांग्रेस में भी टिकट काटने की तैयारी!

2849
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

जयपुर/जोधपुर।

पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के 2008 से 2013 के शासनकाल में खाद्य नागरिक एवं आपूर्ति मंत्री रहे बाबूलाल नागर की एक बार फिर से मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं।

नागर पर एक महिला ने 2013 में उसके साथ दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था। जिसको लेकर गहलोत सरकार के शासनकाल, 2013 में ही उनको गिरफ्तार कर लिया गया था। इसको लेकर जांच सीबीआई कर रही थी।

आज सीबीआई और पीड़िता की दो अलग-अलग याचिकाओं को राजस्थान हाई कोर्ट ने स्वीकार करते हुए आगे सुनवाई जारी रखने का फैसला किया है।

हाई कोर्ट ने न केवल सुनवाई करने का निर्णय लिया है, बल्कि साथ ही साथ बाबूलाल नागर को नोटिस भी जारी कर दिया गया है। अब इसके बाद उनकी गिरफ्तारी की संभावना भी बढ़ गई है।

एक तरफ कांग्रेस पार्टी आज ही राजस्थान के करीब 150 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी करने जा रही है, तो दूसरी तरफ दूदू विधानसभा से प्रबल दावेदार बाबूलाल नागर के लिए यह बुरी खबर आई है।

गौरतलब है कि एक पीड़िता ने तत्कालीन खाद्य नागरिक एवं आपूर्ति मंत्री बाबूलाल नागर पर उनके सरकारी निवास पर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था, जिसके बाद प्रदेश सरकार ने जांच सीबीआई को सौंप दी थी। मंत्री रहते ही बाबूलाल नागर को गिरफ्तार किया गया था।

लेकिन, नागर को जयपुर जिला न्यायालय क्षेत्र न्यायाधीश क्रम संख्या—2 ने 30 जनवरी 2017 को ही बरी किया गया था। तब से बाबूलाल नागर एक बार फिर से दूदू विधानसभा से कांग्रेस पार्टी का टिकट लेकर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे।

बाबूलाल नागर को लेकर राजस्थान हाई कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस पार्टी एक बार फिर से उनके टिकट को लेकर मंथन कर सकती है। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक उनका टिकट काटा जा सकता है, या फिर कोर्ट के अगले कदम का इंतजार किया जा सकता है।

कोर्ट के इस फैसले के बाद एक और जहां कांग्रेस और बाबूलाल नागर के लिए मुश्किल की घड़ी है, वहीं बीजेपी के दूदू से उम्मीदवार डॉ. प्रेम चंद बेरवा के लिए राहत की खबर मानी जा सकती है।

खबरों के लिए फेसबुक, ट्वीटर और यू ट्यूब पर हमें फॉलो करें। सरकारी दबाव से मुक्त रखने के लिए आप हमें paytm N. 9828999333 पर अर्थिक मदद भी कर सकते हैं।