जयपुर।
महिला बाल विकास विभाग में निकाली गई एनटीटी भर्ती 1310 पदों के लिए 24 फरवरी को होने वाली परीक्षा के लिए फर्जी अभ्यर्थी शामिल होने की आशंका व्यक्त की गई है।

यह परीक्षा जयपुर में आयोजित होगी। एनटीटी के प्रदेश महासचिव विष्णु शर्मा ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा एनटीटी कोर्स 2010 में बंद कर दिया है, क्योंकि एनसीटीई द्वारा एनटीटी को तृतीय श्रेणी अध्यापक के समकक्ष मानने से इंकार कर दिया।

जिसके कारण एनटीटी अभ्यर्थी तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती से वंचित हो गए थे। 2003 से 2010 तक राज्य में 2754 अभ्यर्थी ने एनटीटी कोर्स किया।

राज्य सरकार एनटीटी छात्रों को आंदोलन को देखते हुए महिला बाल विकास में पूर्व प्राथमिक शिक्षक का पद सर्जन किया था, पूर्व में दो भर्तियां हो चुकी हैं।

साल 2012 में 500 पदों के लिए 4516 अभ्यर्थी व 2013 में 1148 पदों के लिए 5240 अभ्यर्थी ने आवेदन किया था।

जबकि इस भर्ती में 24268 आवेदन आए इतनी अधिक संख्या में आवेदन आ जाने के कारण फर्जी आवेदनों का बल मिलता है।

इनका कहना है-
हमनें अधीनस्थ कर्मचारी बोर्ड व महिला वाल विकास विभाग को फर्जी अभ्यर्थी के बारे में अवगत करवा दिया है। उन्हेने उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया है।

मोहन शर्मा, प्रदेश अध्यक्ष राजस्थान राज्य पूर्व प्राथमिक शिक्षक संघर्ष समिति