-राहुल के समर्थन में उतरा जेएनयू एनएसयूआई, अलवर के विकास यादव ने दिया अध्यक्ष पद से इस्तीफा।

नई दिल्ली। देशद्रोह के नारे लगाने के आरोप में 2016 में जब विवाद हुआ था, और जेएनयू में राहुल गांधी विश्वविद्यालय के शटडाउन में शामिल हुए थे, वह निर्णय राहुल गांधी का नहीं था।

बल्कि, उस युवक का था, जिसने हाल ही में राहुल गांधी के द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद खुद ने भी एनएसीआई की स्टेट इकाई के प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

इस्तीफा दे चुके जेएनयू एस्टेट इकाई के अध्यक्ष विकास यादव का दावा है कि 2016 में उनके कहने पर ही राहुल गांधी जेएनयू के शटडाउन में शामिल हुए थे।

इधर, लोकसभा चुनाव में हार के बाद कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी है। राष्ट्रीय अध्यक्ष से लेकर छात्र इकाई तक तमाम पदाधिकारी हार की जिम्मेदारी ले रहे हैं।

इसी सिलसिले में अलवर की मुंडावर तहसील के अंतर्गत खानपुर अहीर निवासी और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय एनएसयूआई यूनिट दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष विकास यादव ने इस्तीफा दे दिया।

गौरतलब है कि विकास यादव कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई से एक लंबे दौर से जुड़े रहे हैं और तक़रीबन 5 वर्ष तक प्रदेश अध्यक्ष रहे हैं।

बीते वर्ष जेएनयू छात्रसंघ का चुनाव लडऩे वाले विकास यादव ने कई विरोध प्रदर्शनों में एनएसयूआई की अगुवाई की है।

इस्तीफे वाले पत्र में विकास ने दावा किया है कि उनके ही निवेदन पर राहुल गांधी ने एक बड़ा रिस्क लिया था, जब 2016 वाले मामले में जेएनयू शट डाउन कैंपेन के दौरान वह जेएनयू जाकर छात्रों के साथ खड़े हुए थे।