jaipur @ yoga day
वित्तीय नियोजन की चर्चा छिड़ने भर से लोग अक्सर घबरा जाते हैं। भारत में अधिकांश लोग अपने वर्तमान और भविष्य की वित्तीय स्थिति को लेकर चिंतित हैं।

वे अपने दीर्घकालिक वित्तीय लक्ष्यों और सेवानिवृत्ति योजनाओं तक पहुंचने के लिए लगातार हाथ-पैर मार रहे हैं।

इससे तनाव पैदा होता है। यह एक ज्ञात तथ्य है कि वित्त के बारे में तनाव न केवल व्यक्तियों को स्वास्थ्य जोखिमों के लिए अतिसंवेदनशील बनाता है, बल्कि उनके समग्र प्रदर्शन को भी प्रभावित करता है।

यदि कोई वित्तीय संकट का सामना कर रहा है, तो केवल ‘योग’ सिर्फ एक उपाय है जो इस तनाव को हल्का करने में मदद कर सकता है और उनके शारीरिक, मानसिक और वित्तीय स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है।

योग का विज्ञान भारतीय इतिहास का एक अनिवार्य और महत्वपूर्ण हिस्सा है। पिछले कुछ वर्षों में, दुनिया तेजी से योग से जुडे अनगिनत लाभों की खोज कर रही है।

योगासन के लाभों को बताते हुए कई वैश्विक सेलिब्रिटी आगे आई हैं और इस तरह दुनिया भर में इसका चलन बढा है। आसनों का अभ्यास चार महत्वपूर्ण भावनाओं या भावों से जुड़ा हुआ है।

जहां, योगासन हमें शारीरिक रूप से फिट होने के लिए मार्गदर्शन करते हैं, वहीं नियमित अभ्यास के माध्यम से यह मन से जुड़े भावों को भी परिष्कृत कर खुद अपना बेहतर संस्करण बनने में मदद करता है।

यह भाव हमें आत्मज्ञान की ओर अग्रसर करते हैं, ऐसी स्थिति जहां कोई बेहतर निर्णय लेने के लिए तैयार हो जाता है।

योग सूत्र में बताए गए ये चार भाव बेहतर वित्तीय निर्णय लेने में किसी की भी मदद कर सकते हैं और लोगों को उनके वित्तीय लक्ष्यों के करीब ले जाने वाला एक बेहतर पोर्टफोलियो बन सकता है। आइए, जानें कैसे –

धर्म भाव
धर्म व्यक्ति को एक क्रम में स्वयं, परिवार, कार्य और समाज के प्रति अपने कर्तव्य का पालन करने के लिए प्रेरित करता है।

जब इसे निवेश की शर्तों पर लागू किया जाता है तो यह भाव एक पूर्ण निवेश पोर्टफोलियो बनाने में मदद करता है जो किसी व्यक्ति की सभी जरूरतों और उसके प्रियजनों की देखभाल करने वाला हो।

जो लोग जिम्मेदार हैं, वे अपने और अपने परिवार के लिए एक संरक्षित वित्तीय भविष्य का निर्माण करते हैं।

वे समझदारी से योजना बनाते हैं, आपात स्थिति के लिए प्रावधान करते हैं, तर्कसंगत तरीके से ऋण से निपटते हैं और अपने कर को सबसे कम रखते हैं।

इन व्यक्तियों के स्पष्ट वित्तीय लक्ष्य हैं और वे अपने परिवार के वित्तीय भविष्य के लिए प्रदान करने की दिशा में पूरी लगन से काम करते हैं।

वे काम को अपने धर्म का हिस्सा मानते हुए अपने कार्यस्थल पर ईमानदारी बरतते है और जागरूक हैं।

ये वे लोग हैं जो समाज के प्रति अपने धर्म की जिम्मेदारी को पूरा करने के लिए दुनिया को बेहतर जगह बनाने के लिए अपना योगदान देते हैं।

ज्ञान भाव
ज्ञान हमें प्रश्न करने, समझने और अधिकतम संभव सीमा तक हर बात और काम का मूल्यांकन करने के लिए बाध्य करता है।

यह भाव एक बेहतर पोर्टफोलियो बनाने में मदद कर सकता है जो बाजार के शोर के बजाय जमीनी कदमों पर आधारित है।

इस भाव का उपयोग आत्मबोध की भावना से शुरू होता है। यह ज्ञान हमें अपनी आवश्यकताओं की पहचान करने के लिए प्रेरित करता है और हमारे लिए परिसंपत्ति वर्गों को परिभाषित करना आसान बनाता है जो हमारे वित्तीय लक्ष्यों के लिए सबसे उपयुक्त हैं।

ज्ञान भाव के साथ कोई निवेशक जिज्ञासु रहेगा और निवेश से पहले कंपनी, उसके उत्पाद या सेवा, उसके प्रबंधन और वित्तीय रिपोर्टों के बारे में सीखेगा।

महत्वपूर्ण ज्ञान से लैस, एक निवेशक मजबूत शोध के आधार पर स्वस्थ निवेश उठाकर सफलता की संभावना को बढ़ाता है।

वैराग्य भाव
यह वैराग्य का भाव है। अहंकार से मुक्त, यह भाव किसी व्यक्ति में निष्पक्ष रूप से हर स्थिति में की परिकल्पना करने और शांति से चीजों का मूल्यांकन करने की क्षमता विकसित करता है।

एक बार जब एक परिव्यय के अवसर की पहचान कर ली जाती है तो ज्ञान के आधार पर, वैराग्य का अभ्यास एक निवेशक को तटस्थता की स्थिति में प्रवेश करवाते हुए अल्पकालिक मूल्य में उतार-चढ़ाव की उपेक्षा करना सीखा देता है।

स्टॉक में निवेश के लिए ऐसा वैराग्य अपरिहार्य है। वैराग्य जोर देकर कहता है कि मजबूत जमीनी नियमों पर आधारित निवेश तभी लाभ देगा जब निवेशक इस भाव का अभ्यास करके अपनी संपत्ति के कागजों पर मूल्य में उतार-चढ़ाव की अनदेखी करते हैं।

ऐश्वर्य भाव
यह भाव बहुतायत और भलाई को व्यक्त करता है। जब धर्म, ज्ञान और वैराग्य के तीन भावों में महारत हासिल हो जाती है, तो ऐश्वर्य भाव की प्राप्ति होती है।

यह एक ऐसी स्थिति है जो इच्छाशक्ति, शक्ति, आत्मनिर्भरता, आत्म-नियंत्रण और लचीलापन प्रदान करती है।

आत्म का यह सबसे परिष्कृत संस्करण किसी व्यक्ति को अपने मजबूत, शांत और ज्ञान प्राप्त व्यक्तित्व के माध्यम से एक तर्कसंगत निवेश पोर्टफोलियो का निर्माण करके धन आकर्षित करने का अधिकार देता है।

जब कोई व्यक्ति अपने धर्म भाव पर चलता है तो अपने स्वयं के लिए वित्तीय नियोजन के कर्तव्य पर काम करता है, वहीं ज्ञान की शक्ति का उपयोग करके बंदोबस्ती करता है।

वैराग्य के साथ बाजार के शोर से खुद को अलग करता है, इस तरह कोई ऐश्वर्य या महान समृद्धि के संतोष तक तक पहुंच सकता है।

अंत में किसी की निवेश रणनीति और योग भाव के बीच बहुत समानता है। भावों की समझ वित्तीय योजना के प्रति अपने दृष्टिकोण को बेहतर बनाने में मदद कर सकती है।

किसी को अपने निवेश की वास्तविक क्षमता तक पहुंचने की कुंजी हासिल करने में मदद कर सकती है।