अच्छे हिंदू और बुरे हिंदू वाले शशि थरूर के बयान पर बीजेपी नेता ने यूं दिया करार जवाब-

26
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

जयपुर।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर द्वारा अयोध्या में राम मंदिर को लेकर दिए गए विवादित बयान पर आज भारतीय जनता पार्टी राजस्थान इकाई के वरिष्ठ नेता ने करारा जवाब दिया है।

गौरतलब है कि कल ही कांग्रेस नेता ने कहा था कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए अच्छा हिंदू कभी भी मस्जिद तोड़कर उसके स्थान को कब्जे में लेने का प्रयास या इच्छा नहीं रखेगा।

शशि थरूर के बयान पर पलटवार करते हुए राजस्थान धरोहर संरक्षण एवं प्रोन्नति प्राधिकरण केे अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इशारे पर शशि थरूर नेे यह बयान दिया है।

लखावत ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी वोट बैंक की क्षुधा को मिटाने के लिए मंदिरों में दर्शन के नाम पर जा रहे हैं, जबकि उनका और उनकी कांग्रेस पार्टी का करोड़ों हिंदुओं के आस्था के अंदर राम मंदिर जन्मभूमि अयोध्या में मंदिर नहीं बनाने का परिदृश्य प्रकट कर रहा है।
लखावत ने कांग्रेस अध्यक्ष पर तीखा हमला करते हुए कहा कि वोट बैंक को साधने के लिए दोहरा मापदंड एक साथ अपना रही है, जिसमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी खुद मंदिरों में माथा टेक रहे हो।
दूसरी ओर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने अयोध्या में राम मंदिर पर भव्य राम मंदिर के निर्माण की औचित्य को चुनौती दे रहे हैं। लखावत ने कहा कि यह कांग्रेस का दौरा चेहरा है, जिसे आम लोग अच्छी तरह से पहचान गए हैं।
 उन्होंने अपने बयान में कहा कि इससे पूर्व भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की विश्वसनीय नेता एवं तत्कालीन कांग्रेस शासित सरकार के केंद्रीय मंत्री रहे कपिल सिब्बल ने सर्वोच्च न्यायालय में स्पष्ट रूप से कहा था, कि राम मंदिर से संबंधित सर्वोच्च न्यायालय के विचाराधीन प्रकरण की सुनवाई लोकसभा चुनाव 2019 तक स्थगित कर दी जाए।
क्योंकि न्यायालय में सुनवाई होने से न्यायालय के बाहर गंभीर प्रभावों का प्रकटीकरण होता है। कपिल सिब्बल कि उक्त प्रार्थना पत्र पर उस पक्षकार ने कपिल सिब्बल की राय से सहमति व्यक्त करते हुए कहा कि यह हमारी मांग नहीं है।
बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने कहा कि कांग्रेस की हाल ही में हो रहे विधानसभा के चुनाव में वोट बैंक की राजनीति करते हुए एक और मंदिर में जा रही है। दूसरी ओर अच्छे हिंदुओं का किसी दूसरे के आस्था केंद्र को तोड़ कर उसी स्थान पर राम मंदिर नहीं बनने की बात कह रही है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस वोटों के लिए अच्छे और खराब हिंदुओं का प्रमाण पत्र जारी करने में व्यस्त है। लखावत ने कहा कि राम मंदिर जन्मभूमि से जुड़े विषय पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय द्वारा जन्म भूमि स्थान पर मंदिर बनाने के संबंध में निर्णय किया जा चुका है, और अपील के रूप में सर्वोच्च न्यायालय में प्रकरण विचाराधीन है।
कांग्रेस पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि पुरातत्व के ऐतिहासिक साक्ष्यों में इस बात के प्रमाण है कि राम जन्म भूमि पर बने मंदिर को तोड़ा गया था, इसलिए शशि थरूर का बयान के दूसरों के पूजा स्थल को ध्वस्त कर मंदिर बनाना अच्छा हिंदू नहीं चाहता है।
यह बयान पूर्णता राम जन्मभूमि, विराट हिंदू समाज एवं राम जन्म भूमि को मुक्त कराने के सैकड़ों वर्ष में किए गए युद्ध, संघर्ष, आंदोलन एवं लोक आस्था का अपमान है। लखावत के अनुसार स्वाभिमानी राष्ट्र के नागरिक से कभी सहन नहीं कर सकते।
मजेदार बात यह है कि अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर को लेकर शशी थरूर द्वारा दिए गए बयान को लेकर राजस्थान की सियासत गर्म है।

जबकि यहां पर नेता शशि थरूर से लेना देना कोई है और न ही राजस्थान से संबंधित अयोध्या राम मंदिर है। ऐसे में विधानसभा चुनाव को देखते हुए सियासी बयान बाजी जोरो पर शुरू हो चुकी है।