सेंट्रल यूनिवर्सिटी में विद्यार्थी न कपड़े से मुंह ढक सकते, न सोशल मीडिया पर कुछ बोल सकते

151
- Advertisement - dr. rajvendra chaudhary

जयपुर।

राजस्थान के एकमात्र केंद्रीय विश्वविद्यालय ने अजीब फरमान जारी कर छात्र-छात्राओं को कई तरह से प्रतिबंधित कर दिया है।

केंद्रीय विश्वविद्यालय अजमेर के द्वारा शुक्रवार को जारी एक आदेश में कहा गया है कि विश्वविद्यालय परिसर में छात्र-छात्राएं मुंह को कपड़े से ढक नहीं सकते हैं। मुंह पर ऐसा कपड़ा नहीं बन सकते हैं, जिससे उनकी पहचान नहीं की जा सके।

केंद्रीय विश्वविद्यालय अजमेर के द्वारा जारी किया गया यह आदेश छात्र-छात्राओं में जहां चर्चा का विषय बना हुआ है, वही विद्यार्थियों ने इसको लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ विरोध का झंडा बुलंद कर दिया है।

इसके साथ ही विश्वविद्यालय ने कहा है कि कोई भी विद्यार्थी विश्वविद्यालय के खिलाफ सोशल मीडिया पर ने कुछ लिख सकता है, ना कोई वीडियो डाल सकता है और न ही ऐसी कोई गतिविधि में शामिल हो सकता है, जिससे विश्वविद्यालय की छवि को नुकसान पहुंचता हो।

गौरतलब है कि विश्वविद्यालय प्रशासन के द्वारा छात्राओं को हॉस्टल से बाहर जाने पर और हॉस्टल में वापस आने पर बायोमैट्रिक हाजिरी लगाने के निर्देश दिए गए थे।

जिसको लेकर छात्राओं में गहरा आक्रोश था। इस प्रकरण को लेकर बीते दिनों कुछ छात्राओं द्वारा मुंह पर स्कार्फ बांधकर सोशल मीडिया पर विश्वविद्यालय के इस आदेश को तुगलकी फरमान और तानाशाही रवैया बताते हुए तीखी आलोचना की थी।

छात्राओं के द्वारा बनाए गए यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के अलावा टीवी चैनलों ने भी खूब दिखाए गए। जिसके चलते विश्वविद्यालय प्रशासन की काफी आलोचना हो रही है।

विश्वविद्यालय के चीफ डॉक्टर द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि किसी भी छात्र-छात्रा के द्वारा दिशा निर्देशों का उल्लंघन करने पर उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।