Nationaldunia

जयपुर।

राज्य में सरकार बदलने के साथ ही पुरानी योजनाओं का लाभ ले रहे पात्र लोगों को दिक्कतें आनी शुरू हो गई हैं। चिकित्सा विभाग के द्वारा पुरानी योजनाओं को बंद नहीं करने के तमाम दावों के विपरीत भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना ने जवाब देना शुरू कर दिया है।

ऐसा ही एक मामला सामने आया है मानसरोवर के एक निजी अस्पताल का। अस्पताल में भर्ती एक मरीज का भामाशाह कार्ड को अमान्य कर दिया। अब गरीब आदमी इलाज के खातिर परेशान हो रहा है।

हुआ यूं कि फागी के श्रीरामपुरा गांव का 70 वर्षीय रामलाल मानसरोवर के अमर मेडिकल एंड रिसर्च अस्पताल में भर्ती हुआ था। उसका भामाशाह कार्ड बना हुआ था। उसका डॉक्टरों को Operation करना था, लेकिन अब अस्पताल प्रबंधन ने इस कार्ड को मानने से इंकार कर दिया।

रोगी रामलाल का कहना है कि उसको इसी कार्ड से राशन की दुकान से गेहूं और केरोसीन मिलता है, लेकिन अस्पताल में यह कार्ड काम नही कर रहा है। अस्पताल के कर्मचारियों का कहना है कि मरीज का भामाशाह कार्ड काम नहीं कर रहा है।

उनके अनुसार यह कार्ड एक्टिवेट नहीं हो रहा है। डॉ. प्रशांत गुप्ता का कहना है कि मरीज रामलाल यहां पर दो दिन से भर्ती है। उसका यूरोलॉजी से संबंधित अति आवश्यक Operation होना है, लेकिन कार्ड सपोर्ट नहीं कर रहा है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।