जयपुर।

भारत वाहिनी पार्टी प्रदेश कोर कमेटी की मीटिंग का आयोजन मंगलवार को श्याम नगर स्थित प्रदेश कार्यालय पर किया गया। इस मीटिंग में वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष घनश्याम तिवाड़ी ने उद्देश्यों एवं भावी योजनाओं पर बात करते हुए कहा कि प्रदेश में 1952 से ही तीसरी ताकत का वर्चस्व रहा है।

रामराज परिषद, स्वतंत्र पार्टी, लोकदल और जनता दल के साथ ही निर्दलियों का भी बोलबाला रहा है। उन्होंने कहा कि लोग कहते हैं कि एकदम से आकर नहीं जीत सकते लेकिन वे ये भूल जाते हैं कि तृणमूल कांग्रेस, चंद्रबाबू नायडू ने जितनी जल्दी सरकार बनाई उतना ही जल्दी राजस्थान में भी बदलाव आयेगा।

अगर वर्तमान स्थिति को देखा जाये तो भाजपा का कोर वोट बैंक राजपूत, ब्राह्मण और व्यापारी भाजपा को छोड़कर भारत वाहिनी की ओर मुड़ गया है।

तिवाड़ी ने कहा कि हमारे सबसे बड़े मुद्दे सामाजिक समरसता, आर्थिक न्याय, उर्जा स्वाधीनता, किसान को इंसेंटिव, पानी, रोजगार और शिक्षा का रहेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में द्वेष और वैमनस्यता की जगह नवनिर्माण को अपनायेंगे।

तिवाड़ी ने सदस्यता अभियान, वोट-संग्रह अभियान की जानकारी भी सदस्यों के बीच रखी। उन्होंने जिलों को आगामी चुनावों के लिए मजबूत और स्वच्छ छवि वाले प्रत्याशियों के नाम चुनाव समिति को नाम भेजने की बात कही।

वाहिनी के प्रदेश युवा अध्यक्ष सुधांशु जैन ने राज्य स्तर पर किये वाहिनी की कार्य प्रगति और आईटी कार्य की जानकारी विस्तार से दी। उन्होंने भविष्य की योजनाओं के बारे में भी चर्चा की

इस दौरान वाहिनी के प्रदेश संगठन महामंत्री दयाराम महरिया के अलावा गिरधारी तिवाड़ी भरतपुर, निर्मल तिवाड़ी अलवर, अवधेश शर्मा जयपुर, नथमल शर्मा जोधपुर, विजय शर्मा उदयपुर, सुरेश नागौरी पाली और आशीष तिवाड़ी सीकर, संभाग प्रभारियों ने अपने अपने संभाग वार वाहिनी कार्य की प्रगति का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

इस दौरान अखिलेश तिवाड़ी, अशोक यादव, प्रभु लाल कुमावत, मूल सिंह शेखावत, महेंद्र मीणा, घेवरचंद सारस्वत, विमल अग्रवाल, दौलत सिंह चींचडोली और छोटू राम कुमावत भी बैठक में उपस्थित थे।