Gopi sahay operation
Gopi sahay operation (file photo)

गर्दन में थी बीमारी, मरीज चलने में असहाय था, धीरे धीरे हाथ पैर जवाब दे जाते हैं

जयपुर।
आधुनिकता का चौला ओढ़े लोगों को नई नई और गंभीर बीमारियों ने जकड़ना शुरू कर दिया है। लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि जब तक ठीक से डायग्नोसिस नहीं करवाते तब तक बीमारी को पकड़ पानाी डॉक्टरों के लिए मुश्किल हो जाता है।

ऐसी ही एक गंभीर और जानलेवा बीमारी का पता लगाकर उसका operation करने में सफलता हासिल की है।

operation करने वाले न्यूरोसर्जन डॉ. राजवेंद्र चौधरी ने बताया कि 38 वर्षीय गोपीसहाय, जो कि दौसा का निवासी है को पिछले दिनों चलने-फिरने में दिक्कत होने लगी थी।

उसको जयपुर हॉस्पिटल में दिखाया गया, जहां पर एमआरआई करवाई गई। एमआरआई में सामने आया कि मरीज को एटकान्टो एक्सियल डिस लोकेशन नामक गंभीर बीमारी है।

यह बीमारी क्रैनियो बट्रीवल जंक्शन की बीमारी है, जिसमें न्यूरो से जुड़े ज्वाइंट धीरे धीर खराब होने लगते हैं और मरीज के हाथ पैर में कमजोरी आने लगती है। डॉ. चौधरी ने जांच के बाद एक मई को operation किया।

operation के दौरान मरीज के एटलस और एक्सिस वट्रीबा में स्क्रू एवं रॉड डालकर उसको फिक्स किया गया।

ज्वाइंट को भी खोलकर उसको काम करने लायक बनाया गया। operation के बाद मरीज अब पूरी तरह से ठीक है।

यह बीमारी गर्दन और सिर के जोड़ की है। उन्होंने बताया कि मरीज को एक दो दिन में डिस्चार्ज कर दिया जाएगा।

operation टीम में डॉ विजय गुप्ता, आशीष मिश्रा, मदन जागा, दयाराम, चरण सिंह का भी अतुल्य सहयोग रहा।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।