सरकारी बैंकों को तीसरी तिमाही में सरकार देगी 20,000 करोड़ रुपये

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के संक्रमण के दौरान देश की बिगड़ रही अर्थव्यवस्था को सुधारने जे लिए जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से बेंको को विशेष सहयोग किया जाएगा।


जिसके तहत चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में वित्त मंत्रालय सरकारी बैंकों 20 हजार करोड़ रुपये डाल सकती है।
हाल ही में समाप्त हुए संसद सत्र में सरकरी बैंकों के लिए 20,000 करोड़ रुपये के कोष को मंजूरी दी गई है।


वित्त मंत्रालय चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को पूंजी समर्थन उपलब्ध करा सकता है।
संसद के हाल में समाप्त सत्र में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के लिए 20,000 करोड़ रुपये के कोष को मंजूरी दी गई है।


संसद ने 2020-21 के लिए अनुदान की अनुपूरक मांग के पहले बैच के तहत सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के लिए 20,000 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं।


सूत्रों ने कहा कि यदि जरूरत पड़ती है कि नियामकीय पूंजी की अनिवार्यता को पूरा करने के लिए अक्टूबर-दिसंबर की तिमाही में बैंकों को पूंजी उपलब्ध कराई जा सकती है।


दूसरी तिमाही के नतीजों के बाद फैसला
सूत्रों ने बताया कि बैंकों के दूसरी तिमाही के नतीजों से अंदाजा लग जाएगा कि किस बैंक को नियामकीय पूंजी की जरूरत है और उसी के अनुरूप पुनर्पूंजीकरण बांड जारी किए जाएंगे।


इसके अलावा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को चालू वित्त वर्ष के दौरान इक्विटी और बांड के जरिये पूंजी जुटाने को पहले ही शेयरधारकों की मंजूरी मिल चुकी है।

यह भी पढ़ें :  Pulwama attack: 8 पत्थरबाजों और 3 दहशतगर्दों को मारा, 50 से ज्यादा गंभीर घायल