30 C
Jaipur
बुधवार, सितम्बर 23, 2020

आर्टिकल 370 निरस्त होने के बाद पहली बार संसद में मौजूद हुए फारूक अब्दुल्ला

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 14 सितम्बर (आईएएनएस)। नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 निरस्त होने के एक साल से अधिक समय के अंतराल के बाद पहली बार संसद के मानसून सत्र में भाग लिया।
अब्दुल्ला जम्मू-कश्मीर के उन नेताओं में से एक थे जिन्हें पिछले साल 5 अगस्त को केंद्र द्वारा आर्टिकल 370 को रद्द कर दिए जाने के बाद हिरासत में रखा गया था।

अब्दुल्ला इस सत्र में उन आरोपों पर ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं कि जम्मू -कश्मीर में कुछ नेताओं को जम्मू-कश्मीर की स्थिति बदलने के बाद अवैध हिरासत में रखा गया है। लोकसभा कक्ष में कांग्रेस के शशि थरूर और मनीष तिवारी, राकांपा की सुप्रिया सुले, डीएमके के ए. राजा और मुथुवेल करुणानिधि कनिमोझी और अखिल भारतीय मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी सहित वरिष्ठ नेताओं ने उनका स्वागत किया। वह विपक्षी बेंच की दूसरी पंक्ति में अपनी निर्धारित सीट पर बैठे।

पिछले साल के शीतकालीन सत्र में आर्टिकल 370 निरस्त करने के दौरान, कई विपक्षी नेताओं ने मांग की थी कि अब्दुल्ला को संसद में उपस्थित होने की अनुमति दी जाए। अब्दुल्ला ने तब श्रीनगर में एक भावनात्मक साक्षात्कार में मीडिया से बात करते हुए कहा था कि उन्हें हिरासत से बाहर आने के लिए अपने घर का दरवाजा तोड़ना पड़ा था और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के इस दावे को खारिज कर दिया था कि वह (अब्दुल्ला) कही भी जाने के लिए स्वतंत्र हैं।

फारूक अब्दुल्ला 2002 में जम्मू -कश्मीर से राज्यसभा के लिए चुने गए और 2009 में फिर से निर्वाचित हुए। उन्होंने मई 2009 में राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया और श्रीनगर से लोकसभा सीट जीती।

अब्दुल्ला की उपस्थिति से पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती की हिरासत पर ध्यान केंद्रित होने की संभावना है। जबकि जम्मू-कश्मीर के अधिकांश मुख्यधारा के राजनीतिक नेताओं को रिहा कर दिया गया है, जिनमें फारूक और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला भी शामिल हैं, वहीं मुफ्ती को सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम (पीएसए) के तहत हिरासत में ही रखा गया है।

–आईएएनएस

वीएवी-एसकेपी

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
आर्टिकल 370 निरस्त होने के बाद पहली बार संसद में मौजूद हुए फारूक अब्दुल्ला 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने वीआएस लिया, लड़ सकते हैं चुनाव

पटना, 23 सितंबर (आईएएनएस)। बिहार के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गुप्तेश्वर पांडेय ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) ले लिया है। बिहार सरकार के पुलिस महानिदेशक भापुसे...
- Advertisement -

कर्नाटक में भाजपा को अनंतकुमार ने मजबूत किया : येदियुरप्पा

बेंगलुरु, 23 सितंबर (आईएएनएस)। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने मंगलवार को दक्षिणी राज्य में भारतीय जनता पार्टी के मजबूत होने का श्रेय दिवंगत...

नो बॉल का खामियाजा भुगतना पड़ा : धोनी

शरजाह, 23 सितंबर (आईएएनएस)। आईपीएल-13 के अपने दूसरे मैच में मात खाने वाली चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने मंगलवार को...

विपक्ष के बहिष्कार के बीच सरकार ने राज्यसभा में कई विधेयक पारित कराए

नई दिल्ली, 22 सितंबर (आईएएनएस)। संसद का मानसून सत्र जारी है। राज्यसभा में विपक्षी नेताओं के हंगामे सांसदों के निलंबन वापसी की मांग के...

Related news

प्रधान पिंकी चौधरी की अशोक को छोड़ नए प्रेमी के साथ भागने की अफवाह?

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति क्षेत्र से प्रधान पिंकी चौधरी के 1 महीने पहले अपने प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भागने...

सचिन पायलट को फंसाने चले थे, अशोक गहलोत खुद आये लपेटे में

भोपाल/जयपुर। मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्य प्रदेश के पूर्व...

आईपीएल-13 : बेंगलोर ने हैदराबाद को 10 रनों से दी शिकस्त

दुबई, 21 सितंबर (आईएएनएस)। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने सोमवार को दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए आईपीएल-13 के मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को 10...

हनुमान बेनीवाल ने स्थानीय लोगों को नौकरी देने के लिए संसद में उठाई यह मांग

-आरोप-प्रत्यारोप से उपर उठकर मजदूर हितों पर हो सामूहिक चिंतन, 80 प्रतिशत स्थानीय लोगों को रोज़गार देने का बनाया जाए प्रावधान -...
- Advertisement -