30 C
Jaipur
बुधवार, सितम्बर 23, 2020

ग्वालियर-चंबल में शिवराज और महाराज पर दारोमदार

- Advertisement -
- Advertisement -

भोपाल, 10 सितंबर (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव में ग्वालियर-चंबल अंचल की सीटों पर भाजपा का सारा दारोमदार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (महाराज) पर रहने वाला है। यही कारण है कि दोनों नेताओं ने इस इलाके पर जोर लगाना शुरू कर दिया है।
राज्य में जिन 27 विधानसभा सीटों पर आगामी समय में उपचुनाव होना है, उनमें से 16 सीटें ग्वालियर-चंबल अंचल से आती हैं। इस इलाके को सिंधिया राजघराने का प्रभाव क्षेत्र माना जाता है। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली भारी सफलता का श्रेय भी सिंधिया को दिया जाता रहा और अब सिंधिया भाजपा में हैं, इसलिए उन पर इस इलाके में पार्टी को जीत दिलाने की बड़ी जिम्मेदारी है।

राज्य की सियासत में मुख्यमंत्री शिवराज और राज्यसभा सांसद सिंधिया को भीड़ जुटाऊ नेता के तौर पर देखा जाता है। भाजपा इन दोनों नेताओं के जरिए ज्यादा से ज्यादा लोगों तक अपनी बात पहुंचाने की रणनीति पर काम कर रही है और यही कारण है कि इन दोनों नेताओं के ज्यादातर दौरे अब एक साथ होंगे, जिसकी शुरुआत भी हो गई है।

सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया भी मानते हैं कि देश में दो ही मास लीडर हैं। एक मुख्यमंत्री चौहान और दूसरे सिंधिया। इन दोनों नेताओं की बात लोग सुनते हैं।

वहीं, कांग्रेस इस क्षेत्र में सिंधिया के प्रभाव को स्वीकरने को तैयार नहीं है। पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का कहना है, इस इलाके की जनता गद्दारों का साथ नहीं देगी। जनता तो शिवराज और सिंधिया को करारा जवाब देने के लिए तैयार बैठी है। कांग्रेस नेताओं की सभाओं में आ रही भीड़ अपना संदेश और मूड बता रही है कि वह आगामी उपचुनाव में क्या करने वाली है।

ग्वालियर-चंबल अंचल के राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि इस क्षेत्र में सिंधिया के प्रभाव को नकारा नहीं जा सकता। यह बात अलग है कि वे खुद लोकसभा का चुनाव हार गए थे। कांग्रेस इसी बात को लेकर चल रही है, जबकि वास्तविकता यह है कि सिंधिया को चाहने वालों की संख्या कम नहीं है। पिछले विधानसभा चुनाव मे सिंधिया केंद्र में थे और अब उपचुनाव में भी केंद्र में होंगे। यही कारण है कि भाजपा ने अपनी रणनीति पर काम करना भी शुरू कर दिया है।

सिंधिया और चौहान इस अंचल के चार दिन के दौरे पर हैं। पहले दिन दिमनी, पोरसा व मेहगांव विधानसभा क्षेत्र में पहुंचे। आगामी दिनों में 11 सितंबर को पोहरी, करैरा व डबरा विधानसभा क्षेत्र, 12 सितंबर को सुमावली, जौरा व ग्वालियर पूर्व विधानसभा और 13 सितंबर को भांडेर व गोहद विधानसभा क्षेत्रों का दौरा करेंगे।

–आईएएनएस

एसएनपी/एसजीके

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
ग्वालियर-चंबल में शिवराज और महाराज पर दारोमदार 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

विपक्ष के बहिष्कार के बीच सरकार ने राज्यसभा में कई विधेयक पारित कराए

नई दिल्ली, 22 सितंबर (आईएएनएस)। संसद का मानसून सत्र जारी है। राज्यसभा में विपक्षी नेताओं के हंगामे सांसदों के निलंबन वापसी की मांग के...
- Advertisement -

तेलंगाना के मुख्यमंत्री, कई मंत्री ओवैसी की बेटी की शादी में पहुंचे

हैदराबाद, 23 सितंबर (आईएएनएस)। ऑल इंडिया इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख व हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी की बेटी की शादी मंगलवार को यहां उनके...

पूनम पांडे पति के खिलाफ मामला दर्ज कराया

पणजी, 23 सितंबर (आईएएनएस)। बॉलीवुड अभिनेत्री पूनम पांडे (29) ने मंगलवार को गोवा के कानाकोना पुलिस थाने में अपने पति सैम अहमद के खिलाफ...

पेफी के राष्ट्रीय ई-कॉन्फ्रेंस में स्वदेशी भाषा-स्वदेशी खेलों पर दिया गया जोर

नई दिल्ली, 22 सितम्बर (आईएएनएस)। फिजिकल एजुकेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया (पेफी) की ओर से देश में स्वदेशी खेलों के प्रति जागरूकता एवं इनके प्रचार-प्रसार...

Related news

प्रधान पिंकी चौधरी की अशोक को छोड़ नए प्रेमी के साथ भागने की अफवाह?

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति क्षेत्र से प्रधान पिंकी चौधरी के 1 महीने पहले अपने प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भागने...

सचिन पायलट को फंसाने चले थे, अशोक गहलोत खुद आये लपेटे में

भोपाल/जयपुर। मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्य प्रदेश के पूर्व...

आईपीएल-13 : बेंगलोर ने हैदराबाद को 10 रनों से दी शिकस्त

दुबई, 21 सितंबर (आईएएनएस)। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने सोमवार को दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए आईपीएल-13 के मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को 10...

हनुमान बेनीवाल ने स्थानीय लोगों को नौकरी देने के लिए संसद में उठाई यह मांग

-आरोप-प्रत्यारोप से उपर उठकर मजदूर हितों पर हो सामूहिक चिंतन, 80 प्रतिशत स्थानीय लोगों को रोज़गार देने का बनाया जाए प्रावधान -...
- Advertisement -