37 C
Jaipur
गुरूवार, सितम्बर 24, 2020

नौ सितंबर को मनेगा हिमालय दिवस, थीम हिमालय और प्रकृति

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 8 सितम्बर (आईएएनएस)। हर साल की तरह इस बार का हिमालय दिवस मानव संसाधन एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय की ओर से 9 सितम्बर को आयोजित किया जाएगा। ये जानकारी खुद शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने दी।
केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने आईएएनएस को बताया की इस साल कोरोना महामारी ने सभी को प्रकृति के मूल स्वरूप से परिचित कराया है और सभी ने प्रकृति के हमारे जीवन पर होने वाले प्रभावों को इतने सकारत्मक ढंग से समझा है। इस साल हिमालय दिवस का थीम हिमालय और प्रकृति होगा।

उन्होंने कहा कि वो उन सभी अतिथियों का धन्यवाद करते हैं, जिन्होंने इस निमंत्रण को स्वीकार किया। मुझे लगता है कि प्रकृति को अपने मूल स्वरुप में बचाये रखना मानव जाति का कर्तव्य है और इसी संकल्प को लेकर, हम इस बार हिमालय दिवस पर मिलेंगे। हिमालय से आने वाला हर एक शख्स इस बात को भलीभांति समझ सकता है, कि अगर हिमालय से जरा भी छेड़छाड़ हुई, तो प्रकृति हमें माफ नहीं करेगी। हमें इस बात पर भी ध्यान देने की जरूरत है कि हम सब सामुदायिक भागेदारी और विकास के लक्ष्यों के प्रति, सुनियोजित ढंग से नया अध्याय लिखें, कि हिमालय हमारी वैश्विक धरोहर है और 130 करोड़ से ज्यादा लोग प्रत्यक्ष और परोक्ष रुप से हिमालय पर निर्भर हैं। यह मेरा सौभाग्य है कि मेरा जन्म हिमालय की गोद में हुआ और संयोग रहा कि जन्मभूमि के साथ कर्मभूमि भी यही क्षेत्र रहा और मेरा बचपन से ही हिमालय के प्रति जबरदस्त आकर्षण रहा है।

वैसे तो हर साल 2010 से हिमालय दिवस मनाया जा रहा है, परन्तु 2013 में केदारनाथ में किस कदर तबाही मची थी ये सारी दुनिया ने देखा था। उसके बाद हर साल नौ सितंबर को हिमायल दिवस मनाने की अधिकारिक घोषणा की गई। उस समय सभी लोगों ने इस घोषणा का स्वागत किया था। इसी क्रम में 2019 में हिमालयी राज्यों का कॉन्क्लेव मसूरी में हुआ और 11 हिमालयी राज्यों ने एक मंच साझा किया। सभी ने इस बात पर जोर दिया कि पर्यावरण संरक्षण और हिमालय को बचाना ही सुखद भविष्य के लिए जरूरी है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि, मैं मिडिया के माध्यम से समस्त लोगों से अपील करना चाहता हूं कि हिमालय को बचाने की चुनौती सिर्फ हिमालयी राज्यों तक ही सीमित न रहे, इसमें सभी का सहयोग अनिवार्य है। सभी लोगों को हिमालय संरक्षण के लिए चलाए जा रहे इस विशेष अभियान की शपथ भी दिलाएंगे।

उपराष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडू, केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह, केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू, अनुराग ठाकुर, चीफ ऑफ स्टाफ विपिन रावत, पद्मभूषण डॉ अनिल जोशी के अलावा कई पर्यावरण प्रेमी कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे।

–आईएएनएस

जेएनएस/एएनएम

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
नौ सितंबर को मनेगा हिमालय दिवस, थीम हिमालय और प्रकृति 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

शोविक से तलोजा जेल में पूछताछ करेगी एनसीबी टीम

मुंबई, 24 सितंबर (आईएएनएस)। एनडीपीएस की एक विशेष अदालत ने गुरुवार को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) को रायगढ़ की तलोजा सेंट्रल जेल में शोविक...
- Advertisement -

बिग बॉस 14 : शो में शामिल होने की खबरों को टीना दत्ता ने झुठलाया

मुंबई, 24 सितम्बर (आईएएनएस)। टेलीविजन अभिनेत्री टीना दत्ता ने रिएलिटी शो बिग बॉस 14 में शामिल होने की अफवाहों को सिरे से खारिज कर...

फ्लिपकार्ट होलसेल ने 12 नए शहरों में पैर पसारे

बेंगलुरू, 24 सितम्बर (आईएएनएस)। डिजिटल बिजनेस टू बिजनेस मार्केटप्लेस फ्लिपकार्ट होलसेल ने गुरुवार को त्यौहारी सीजन को देखते हुए 12 नए शहरों में प्रवेश...

कोहली एंड कंपनी को रोकने के लिए हमारे पास योजना : कुंबले

दुबई, 24 सितम्बर (आईएएनएस)। किंग्स इलेवन पंजाब के मुख्य कोच अनिल कुंबले का मानना है कि दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ मिली हार से टीम...

Related news

प्रधान पिंकी चौधरी की अशोक को छोड़ नए प्रेमी के साथ भागने की अफवाह?

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति क्षेत्र से प्रधान पिंकी चौधरी के 1 महीने पहले अपने प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भागने...

डीजल के दाम में गिरावट पर 6 दिन बाद लगा ब्रेक, पेट्रोल भी स्थिर

नई दिल्ली, 23 सितम्बर (आईएएनएस)। डीजल के दाम में लगातार छह दिनों से जारी गिरावट पर बुधवार को ब्रेक लग गया और पेट्रोल के...

सचिन पायलट को फंसाने चले थे, अशोक गहलोत खुद आये लपेटे में

भोपाल/जयपुर। मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्य प्रदेश के पूर्व...

बेनीवाल हो या पायलट, तीखे तेवर नहीं तो सोशल मीडिया पर “नेताजी” की पूछ नहीं

रामगोपाल जाट। यदि नेताजी ने अपने तीखे तेवर छोड़ दिये तो उनके प्रशंसक भी किनारा कर लेते हैं। जो नेता जितना ज्यादा...
- Advertisement -