34 C
Jaipur
मंगलवार, अक्टूबर 20, 2020

मप्र में घटिया चावल वितरण की जांच ईओडब्ल्यू करेगा

- Advertisement -
- Advertisement -

भोपाल, 3 सितंबर (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश में राशन दुकानों से घटिया चावल बांटे जाने के मामले को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गंभीरता से लिया है। उन्होंने उपभोक्ताओं को गुणवत्ता विहीन चावल देने के मामले की जांच ईओडब्ल्यू (आर्थिक अन्वेषण प्रकोष्ठ) को सौंपने का एलान किया है।
मुख्यमंत्री चौहान ने इस मामले के खुलासे के बाद उच्चस्तरीय बैठक ली। बैठक के दौरान उन्होंने कहा कि फरवरी माह में बालाघाट में मिलों से प्राप्त गुणवत्ताविहीन चावल को सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत बांटने के मामले में पूर्व सरकार द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह गंभीर मामला है। इसमें विभिन्न स्तर पर सांठ-गांठ की भी आशंका है। इस मामले की जांच में जो तथ्य उजागर होंगे, दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। बालाघाट और मंडला जिलों के निरीक्षण के बाद गोदामों से चावल का प्रदाय और परिवहन बंद किया गया है। मिलिंग नीति के अनुसार, गुणवत्ताविहीन चावल के स्थान पर मानक गुणवत्ता का चावल प्राप्त किया जाएगा। भ्रष्टाचार किसी भी स्तर पर सहन नहीं किया जाएगा।

ज्ञात हो कि आदिवासी बहुल जिले बालाघाट और मंडला में राशन दुकानों से बांटे जाने वाले चावल के घटिया पाए जाने के मामले का खुलासा हुआ है। उसके बाद से राज्य की सियासत गर्माई हुई है।

मुख्यमंत्री चौहान ने अधिकारियों की बैठक में कहा कि खाद्यान्न की गुणवत्ता और राशन घोटाले के मामले की विस्तृत जांच की जाए। पूरे प्रदेश में खाद्यान्न की गुणवत्ता सुनिश्चित की जाए। पूर्व में कहीं भी हुई गड़बड़ी की जांच होगी। किसी भी कीमत पर खाद्यान की गुणवत्ता से समझौता नहीं किया जाएगा। इसमें गड़बड़ करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। इस तरह की गड़बड़ियों को पूरी तरह समाप्त करना बहुत जरूरी है।

मुख्यमंत्री चौहान ने आगे कहा कि खाद्यान की गुणवत्ता को प्रभावित करने वाले और कालाबाजारी करने वाले लोगों के दुष्चक्र को तोड़ना आवश्यक है।

दूसरी ओर, बताया गया है कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर बालाघाट जिले के तीन गोदामों का निरीक्षण किया गया। इसमें 3136 मीट्रिक टन तथा मंडला जिले में 1658 मीट्रिक टन चावल निर्धारित मानकों का नहीं पाया गया। दोनों जिलों के निरीक्षण के बाद गोदामों से चावल का प्रदाय और परिवहन बंद किया गया है। इसी तरह प्रदेश में बांटे गए चावल के नमूने लिए जा रहे हैं। कुल 51 संयुक्त दल गठित कर भंडारित चावल के एक हजार से अधिक नमूने लिए जा चुके हैं। इनमें से 284 की जांच की गई है।

–आईएएनएस

एसएनपी/एसजीके

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
मप्र में घटिया चावल वितरण की जांच ईओडब्ल्यू करेगा 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

झपटमारी के बढ़ते मामलों के बीच महिला पत्रकार को फोन वापस मिला

नई दिल्ली, 20 अक्टूबर (आईएएनएस)। सितंबर 2019 में एक ऑटो में सफर करतीं एक महिला पत्रकार का मोबाइल फोन झपटमारों ने छीन लिया था।...
- Advertisement -

गूगल ने नेस्ट सिक्योर अलार्म सिस्टम बंद किया

सैन फ्रांसिस्को, 20 अक्टूबर (आईएएनएस)। गूगल ने अपने नेस्ट सिक्योर अलार्म सिस्टम को बंद करने का फैसला किया है। कम्पनी ने हालांकि कहा है...

4जी सपोर्ट के साथ नोकिया ने भारत में लॉन्च किए दो फीचर फोन

नई दिल्ली, 20 अक्टूबर (आईएएनएस)। नोकिया के ब्रांड से स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी एचएमडी ग्लोबल ने मंगलवार को भारतीय बाजार में 4जी कनेक्टिविटी के...

अफगान शांति पर संपर्क समूहों ने विवादित मुद्दों पर की चर्चा

दोहा, 20 अक्टूबर (आईएएनएस)। दोहा में हुई अफगान शांति समझौते के दोनों पक्षों के संपर्क समूहों के सदस्यों ने प्रक्रियात्मक नियमों को स्थापित करने...

Related news

भाजपा के संगठन ने दिखाई ताकत, 30% में सिमट गए विधायक

- कई वर्षों बाद भारतीय जनता पार्टी संगठन के द्वारा इतने बड़े पैमाने पर टिकट बांटे गए हैं। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद...

मिशन शक्ति अभियान को लेकर नोएडा पुलिस कर रही काम, जागरूकता वैन को दिखाई हरी झंडी

नोएडा, 18 अक्टूबर (आईएएनएस)। मिशन शक्ति अभियान को लेकर नोएडा पुलिस भी काम कर रही है। रविवार को नोएडा के कमिश्नर ऑफिस में मिशन...

उप्र में विधवा पेंशन का लाभ उठा रही विवाहिता और मृत महिलाएं

बदायूं (उत्तर प्रदेश), 16 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में विधवाओं के लिए योजना में धोखाधड़ी के 106 से अधिक मामले सामने...

दुनियाभर में कोरोना मामलों की संख्या 4.03 करोड़ के पार : जॉन्स हॉपकिन्स

वाशिंगटन, 20 अक्टूबर (आईएएनएस)। दुनियाभर में कोरोनावायरस मामलों की कुल संख्या बढ़कर 4.03 करोड़ के पार पहुंच गई है, जबकि इस बीमारी से...
- Advertisement -