17 की उम्र में प्रेमी के साथ भागी, 19 में बच्चे के साथ वापस आई

मेरठ। अपनी उम्र से चार साल बड़े अहमद (जो खुद को पिंटू कहता था)  के साथ पिंकी (बदला हुआ नाम) प्रेम में पिंटू के भरोसे पड़ गई। पिंटू ने पिंकी को प्रेमजाल में इस तरह जकड़ा की उसने महज 17 साल की उम्र में माता-पिता विलेन लगने लगे, जिसके चलते उसने पिंटू उर्फ अहमद के साथ भागकर शादी करने का कदम उठा लिया।

दोनों भागकर नेपाल चले गए, जहां पर एक साल बाद पिंकी को पता चला कि जिसके साथ वो भागकर जीवन का सबसे बड़ा कदम उठा चुकी है, वह पिंटू नहीं अहमद है तो उसके पैरों तले की ज़मीन खिसक गई।

दो बड़े भाइयों और माता-पिता को धौखा देकर भागने वाली पिंकी के पेट में अहमद की औलाद थी। मेरठ के नजदीक गांव में ज़मीदार बाप की संतान पिंकी कॉलेज में दाखिला लेकर अध्ययन शुरू करने का काम कर रही थी।

एक दिन उसे कॉलेज के बाहर महंगी बाइक पर स्टाइलिश लड़का दिखा। उसकी एक मुस्कान ने पिंकी का मन मोह लिया था। यह समय पिंकी की 16 साल की उम्र का था और वह जवानी के सावन में प्रवेश कर चुकी थी।

बड़ा भाई कॉलेज छोड़ने और लेने जाता था, किन्तु अहमद रोजाना उसको कॉलेज के बाहर दिखने लगा। शुरुआत में पिंकी उसकी ज्यादा गंभीरता से नहीं लेती थी, लेकिन एक दिन उसका भाई ले जाने के लिए आने में देर हो गया।

इसका फायदा उठाकर अहमद ने पिंकी से बात की और उसको खुद के नम्बर दे दिए। कुछ दिन बाद वह कॉलेज के बाहर दिखना बन्द हो गया। साल 2017 के दिसम्बर की 31 तारीख को नए साल का जश्न सोशल मीडिया पर छाया हुआ था।

यह भी पढ़ें :  208 कुलपतियों, शिक्षाविदों ने मोदी को भेजा पत्र, कहा-कैंपस को हिंसा में झौंक रहे वामपंथी

इस मौके पर पिंकी अपने दोस्तों से फोन कर बात कर रही थी। अचानक से उसे कॉलेज के बाहर मिले पिंटू की याद आ गई। उसने पिंटू को नववर्ष की शुभकामना वाला संदेश व्हाट्सएप किया।

उधर, से रिप्लाई आया और फिर बातें शुरू हुईं। शुरुआत में व्हाट्सएप मैसेज से बातें होती रहीं। कुछ दिन बाद मौके की तलाश में अहमद को पिंकी से बात करने का बहाना मिल गया।

फिर दोनों के रोजाना बहाना निकालकर मिलने का सिलसिला शुरू हुआ। साल 2018 के शुरुआत 14 फरवरी को दोनों ने शादी का फैसला किया। लेकिन घरवालों से पूछने की हिम्मत न थी।

अहमद ने पिंकी को भागकर शादी करने का फैसला किया। दोनों ने अप्रैल में भागकर शादी कर नेपाल चले गए। जहां पर अहमद के रिश्तेदार थे। जहां उसको कमरा किराए में मिल गया। अहमद वहां छोटी नोकरी करने लगा।

अहमद मस्जिद जाता था पर पिंकी को इसकी जानकारी नहीं थी। एक दिन ईद के अवसर पर उसने पकवान बनाने और नए कपड़े दिलाने का काम किया तब पिंकी को पता चला कि पिंटू तो के अहमद होने का पता चला।

अब अहमद ने बिना डर साफ कह दिया कि पिंकी को धर्म बदलना होगा। पिंकी के पास कोई चारा नहीं था। उसने खुशी खुशी धर्म बदल लिया और फिर अहमद को वापस मेरठ आने को राजी करने लगी। करीब 3 माह बाद अहमद इसके लिए राजी हो गया। मेरठ में आने के बाद पिंकी ने अपने भाई को फोन कर बुलाकर सारी बात बताई।

उसके भाई ने पिता और अन्य लोगों को बुलाया। तब अहमद के परिजन पर एकत्रित हो गए। दोनों तरफ से मामला पुलिस के समक्ष पेश हुआ पर किसी ने मुकदमा दर्ज नहीं करवाया। अब पिंकी गर्भवती है और पीहर में रह रही है।

यह भी पढ़ें :  11 दिसम्बर ईवीएम जीतेगी या जनता?