15 C
Jaipur
सोमवार, नवम्बर 30, 2020

नक्सल हिंसा प्रभावित इलाकों में जनजातीय भाषाओं में जनमत सर्वेक्षण

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली/रायपुर, 18 अगस्त (आईएएनएस)। मध्य भारत में जारी नक्सली हिंसा का समाधान खोजने के लिए छत्तीसगढ़ की मूल भाषाओं में जनमत सर्वेक्षण किया जा रहा है।
छत्तीसगढ़ में आदिवासियों के साथ दशकों से काम कर रहे शांति व मानवाधिकार कार्यकर्ता शुभ्रांशु चौधरी की अगुवाई वाली न्यू पीस प्रोसेस (एनपीपी) संस्था नक्सली हिंसा पर गोंडी, हल्बी और हिंदी भाषाओं में फोन पर जनमत सर्वेक्षण करवा रही है। यह जनमत सर्वेक्षण 74 वें स्वतंत्रता दिवस से शुरू हुआ है।

एनपीपी ने एक बयान में कहा कि इस पोल का उद्देश्य यह पता लगाना है कि मध्य भारत में कितने लोग मानते हैं कि छत्तीसगढ़ में नक्सलियों और पुलिस के बीच हिंसा का समाधान बातचीत है और कितने लोग मानते हैं कि इस नक्सल हिंसा का समाधान सैन्य और पुलिस द्वारा प्रतिक्रिया देना है।

- Advertisement -नक्सल हिंसा प्रभावित इलाकों में जनजातीय भाषाओं में जनमत सर्वेक्षण 2

छत्तीसगढ़ में कोई भी 7477 288 444 फोन नंबर पर मिस्ड कॉल देकर अपनी राय दर्ज करा सकता है। इस नंबर पर मिस्ड कॉल देने पर कॉल करने वाले को दूसरे नंबर से कॉल बैक आएगा और कॉल करने वाले व्यक्ति से कंप्यूटर द्वारा हिंदी, गोंडी और हल्बी भाषाओं में बात की जाएगी। कॉल करने वाला व्यक्ति तीन भाषाओं में अपने विचारों को विस्तार से रिकॉर्ड करा सकता है। इस नंबर पर 2 अक्टूबर तक फोन किया जा सकता है, इसके बाद गांधी जयंती पर एनपीपी की ब्रेक द साइलेंस ई-रैली में इस सर्वे के नतीजे घोषित किए जाएंगे।

एनपीपी ने स्वतंत्रता दिवस पर बस्तर मांगे : हिंसा से मुक्ति विषय पर एक सेल्फी प्रतियोगिता भी शुरू की है।

एनपीपी के संयोजक शुभ्रांशु चौधरी ने आईएएनएस को बताया कि वे चायकले मांडी नाम से बैठकों की एक श्रृंखला भी शुरू कर रहे हैं। गोंडी भाषा के इस शब्द का अर्थ शांति और खुशी के लिए बैठक करना है। इन बैठकों में दोनों पक्षों के हिंसा से पीड़ितों लोगों को बुलाया जाएगा और उनसे हिंसा के संभावित समाधानों के बारे में राय मांगी जाएगी। फिर उनकी राय के आधार पर आगे के कार्यक्रम तैयार किए जाएंगे।

इस विषय पर शहर में रहने वाले लोग सोशल मीडिया के जरिए अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले 20 वर्षों में नक्सली हिंसा में 12 हजार से अधिक लोग मारे जा चुके हैं, जिसमें 2,700 पुलिसकर्मी शामिल हैं।

–आईएएनएस

एसडीजे/एसएसए

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
नक्सल हिंसा प्रभावित इलाकों में जनजातीय भाषाओं में जनमत सर्वेक्षण 3
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

‘संसदीय लोकतंत्र की मजबूती का मीडिया सारथी’

' संसदीय लोकतंत्र की मजबूती में मीडिया सारथी है, मीडिया विधानसभा सत्रों में सिर्फ दर्शक नहीं है बल्कि लोकतंत्र का दिग्दर्शक है। ' कुलदीप शर्मानर्मदा...
- Advertisement -

जैकुल शर्मा ने खरीदी प्रीमियर हैंडबॉल लीग किंग हॉक्स टीम

जयपुर। अंतर्राष्ट्रीय जैम्स एंड ज्वैलरी व्यवसायी और होटल शिव विलास के ऑनर जैकुल शर्मा ने प्रीमियर हैंडबॉल लीग (पीएचएल) के साथ खेल व्यवसाय में भी...

जैकुल शर्मा ने खरीदी प्रीमियर हैंडबॉल लीग किंग हॉक्स टीम

जयपुर। अंतर्राष्ट्रीय जैम्स एंड ज्वैलरी व्यवसायी और होटल शिव विलास के ऑनर जैकुल शर्मा ने प्रीमियर हैंडबॉल लीग (पीएचएल) के साथ खेल व्यवसाय में भी...

पर्यावरण मानकों को पूरा किए बिना चल रहा राजस्थान का सबसे बड़ा कोविड डेडिकेटेड हॉस्पिटल RUHS

—हॉस्पिटल संचालन के लिए दो साल से नहीं ली राजस्थान पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड से सहमति जयपुर। सरकार का काम जनता के हितों में नियम-कानून बनाने...

Related news

आशादीप बिल्डर की ठगी के शिकार किंग्सकोर्ट निवासी लामबंद हुए

- RERA में ढेरों शिकायतें दर्ज, कुछ कंजूमर कोर्ट की शरण में - बिल्डर को बचाने में जुटे कई रिटायर्ड ब्यूरोक्रेट्स, एक ब्यूरोक्रेट ने...

Video: 10-10 करोड़ में बिके BTP के विधायक, गहलोत के खास विधायक ने लगाये आरोप

Jaipur. जुलाई और अगस्त के महीने में जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और तत्कालीन उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच राजनीतिक युद्ध शुरू हुआ था।...

जैकुल शर्मा ने खरीदी प्रीमियर हैंडबॉल लीग किंग हॉक्स टीम

जयपुर। अंतर्राष्ट्रीय जैम्स एंड ज्वैलरी व्यवसायी और होटल शिव विलास के ऑनर जैकुल शर्मा ने प्रीमियर हैंडबॉल लीग (पीएचएल) के साथ खेल व्यवसाय में भी...

विश्लेषण: किसानों पर water cannon से बौछार कितनी सही, कितनी खतरनाक?

रामगोपाल जाट केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (pm narendra modi govt) द्वारा दो माह पहले संसद में पारित किए गए तीन कृषि कानून (three Farmer...
- Advertisement -