33 C
Jaipur
सोमवार, सितम्बर 28, 2020

कोरोना प्रकोप के बीच 5 राज्यों में गर्भपात की गोलियों की अत्यधिक कमी

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 10 अगस्त (आईएएनएस)। कोरोनावायरस प्रकोप के बीच दिल्ली, पंजाब, तमिलनाडु, हरियाणा और मध्य प्रदेश में स्टॉक की कमी के कारण पूरे देश में मेडिकल गर्भपात गोलियों की अत्यधिक कमी हो गई है।

सोमवार को एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ।

फाउंडेशन फॉर रिप्रोडक्टिव हेल्थ सर्विसेज द्वारा 1,500 दवा विक्रेताओं (केमिस्ट) पर किए गए अध्ययन से पता चला है कि पंजाब में केवल एक प्रतिशत, तमिलनाडु और हरियाणा में दो-दो प्रतिशत, मध्य प्रदेश में 6.5 प्रतिशत और दिल्ली में 34 प्रतिशत केमिस्टों के पास गर्भपात की दवाओं का स्टॉक है।

वहीं, असम में 69.6 प्रतिशत केमिस्टों के पास स्टॉक है।

अध्ययन के अनुसार, दवाओं के नॉन-स्टॉकिंग को ड्रग कंट्रोल अधिकारियों द्वारा अति-विनियमन से जोड़ा मालूम पड़ता है। लगभग 79 प्रतिशत केमिस्ट कानूनी वजहों और अत्यधिक दस्तावेजीकरण जैसी आवश्यकताओं से बचने के लिए इन दवाओं का स्टॉक नहीं करते हैं।

यहां तक कि असम में, जहां सबसे अधिक स्टॉकिंग प्रतिशत है, 58 प्रतिशत केमिस्ट दवाओं के अति-विनियमन (ओवर रेगुलेशन) की बात कहते हैं। हरियाणा में 63 फीसदी केमिस्ट, मध्य प्रदेश में 40 प्रतिशत, पंजाब में 74 फीसदी और तमिलनाडु में 79 फीसदी केमिस्टों ने कहा कि राज्य-वार कानूनी बाधाएं गर्भपात दवाओं के नॉन-स्टॉकिंग का एक प्रमुख कारण बनी हुई हैं।

एफआरएचएस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वी.एस. चंद्रशेखर ने आईएएनएस को बताया, दवाओं का स्टॉक नहीं करने का स्थानीय दवा प्राधिकरणों का अति-विनियमन है। जबकि यह एक शेड्यूल के ड्रग है और यहां तक कि आशा कार्यकर्ताओं को समुदायों में वितरित करने के लिए दिया जाता है, कई खुदरा विक्रेता गलतफहमी और कानूनी बाधाओं के कारण उन्हें स्टॉक नहीं करते हैं।

उन्होंने कहा कि चिकित्सा गर्भपात की दवाएं 81 फीसदी महिलाओं के लिए गर्भपात का सबसे पसंदीदा तरीका है और इसलिए उनकी उपलब्धता में कमी महिलाओं को प्रभावित करती है, जो सर्जिकल गर्भपात के तरीकों को नहीं अपनाना चाहती है।

चंद्रशेखर ने कहा, महामारी के बीच में जब लोगों की आवाजाही प्रतिबंधित है और परिवार नियोजन के क्लीनिकल तरीके पर्याप्त रूप से उपलब्ध नहीं हैं, तो दवाओं के लिए अप्रतिबंधित पहुंच सुनिश्चित करने की सख्त जरूरत है।

चंद्रशेकर प्रतिज्ञा एडवाइजरी ग्रुप के सदस्य भी हैं।

हालांकि अध्ययन का उद्देश्य दवाओं की उपलब्धता की तस्दीक करना था, लेकिन निष्कर्ष यह भी बताते हैं कि तमिलनाडु राज्य में केमिस्टों द्वारा आपातकालीन गर्भनिरोधक गोलियों (ईसीपी) का स्टॉक नहीं किया जा रहा है।

राज्य में सर्वेक्षण में शामिल केमिस्टों में से केवल 3 प्रतिशत ने ईसीपी का स्टॉक किया है और 90 प्रतिशत ने नहीं किया है, उन्होंने कहा कि राज्य में गोलियां प्रतिबंधित हैं। आपातकालीन गर्भनिरोधक गोलियां नॉन-प्रिस्क्रिप्शन वाली दवाएं हैं और राष्ट्रीय परिवार नियोजन कार्यक्रम के तहत आशा कार्यकर्ताओं द्वारा स्टॉक और वितरित भी की जाती हैं। केमिस्टों को ईसीपी की स्टॉक की अनुमति नहीं देना तमिलनाडु की महिलाओं को गर्भनिरोधक विकल्प का उपयोग करने के लिए एक सुरक्षित और आसान तरीके से मना करने जैसा है।

एमए दवाओं की अनुपलब्धता का मुख्य कारण यह गलत समझ है कि नियामक अधिकारियों के बीच जेंडर बायस्ड सेक्स सेलेक्शन के लिए मेडिकल अबॉर्शन कॉम्बिपैक्स का उपयोग किया जा सकता है। इसका उपयोग केवल नौ सप्ताह तक करने के लिए संकेत दिया जाता है जबकि एक अल्ट्रासाउंड 13-14 सप्ताह के गर्भ में भ्रूण के लिंग का पता लगा सकता है।

केमिस्ट हालांकि इस गलत धारणा को साझा नहीं करते हैं।

एफआरएचएस इंडिया की क्लीनिकल सर्विस की निदेशक डॉ. रश्मि आर्डी ने कहा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय को स्पष्ट करना चाहिए कि भारत में नौ सप्ताह तक इस्तेमाल करने के लिए अनुमोदित एमए दवाओं का इस्तेमाल गर्भावस्था के सेक्स सेलेक्शन (लिंग चयनित) टर्मिनेशन के लिए नहीं किया जा सकता है।

छानबीन और अधिक विनियमन, एमए दवाओं की अनुपलब्धता के लिए अग्रणी चिंता का एक प्रमुख कारण है और लाखों महिलाओं के सुरक्षित गर्भपात विधि तक पहुंच से वंचित होने की आशंका है। डब्ल्यूएचओ ने 2019 में, आवश्यक दवाओं की कोर सूची में एमए दवाओं को शामिल किया, और अपनी पहले की उस एडवाइजरी को हटा दिया जिसमें दवाओं को लेते समय मेडिकल निगरानी की आवश्यकता थी।

एफआरएचएस इंडिया की सीनियर मैनेजर-पार्टनरशिप देबंजना चौधरी ने कहा कि एमए दवाओं के स्टॉकिंग में अनावश्यक बाधाओं को हटाने से यह सुनिश्चित होगा कि महिलाएं अपनी पसंद के विकल्प का उपयोग कर सकेंगी।

–आईएएनएस

वीएवी/एसजीके

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
कोरोना प्रकोप के बीच 5 राज्यों में गर्भपात की गोलियों की अत्यधिक कमी 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

ब्यावर विधायक शंकर रावत के नेतृत्व में भाजपा कार्यकर्ता पहुंचे सीएमओ

जयपुर। ब्यावर को जिला बनाने की मांग ने जोर पकड़ लिया है। इसी क्रम में आज अजमेर के ब्यावर विधानसभा से विधायक...
- Advertisement -

दुनिया में कोविड-19 मामलों की संख्या 3.3 करोड़ से ज्यादा: जॉन्स हॉपकिन्स (लीड-1)

वाशिंगटन, 28 सितंबर (आईएएनएस)। जॉन्स हॉपकिन्स विश्वद्यिालय के अनुसार, सोमवार को वैश्विक स्तर पर कोरोना वायरस मामलों की कुल संख्या 3.3 करोड़ से अधिक...

औरेंज कैप पहुंची राहुल के पास, शमी के पास आई पर्पल कैप

शारजाह, 28 सितंबर (आईएएनएस)। किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान लोकेश राहुल और तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी के पास औरेंज कैप और पर्पल कैप पहुंच...

पंजाब युवा कांग्रेसियों ने इंडिया गेट के पास ट्रैक्टर में लगाई आग, 5 हिरासत में (लीड-1)

नई दिल्ली, 28 सितम्बर (आईएएनएस)। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा कृषि विधेयकों पर हस्ताक्षर करने और उन्हें कानून बनाने के एक दिन बाद, पंजाब युवा...

Related news

डूंगरपुर में आंदोलन की जड़: सामान्य वर्ग के लिये आरक्षित नहीं हैं 50 फीसदी सीटें, योग्य हो तो आरक्षित वर्ग भी हो सकता है...

जयपुर। राजस्थान के दक्षिण क्षेत्र के जिले डूंगरपुर, जिसको मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ​द्वारा तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने के साथ ही नक्सलवाद पनपने का क्षेत्र...

बहुपक्षवाद और मानव जाति के साझा भाग्य के निर्माण में शक्ति डालें : भारतीय विद्वान

बीजिंग, 25 सितम्बर (आईएएनएस)। अभी कुछ दिनों पहले संयुक्त राष्ट्र महासभा का वार्षिक सत्र हुआ जहां तमाम देशों के नेताओं ने वीडियो के जरिए...

जयपुर: प्रेम-प्रंसग में 23 वर्षीय छात्रा को दिन-दहाड़े चाकू मारा, फिर दागी तीन गोलियां

-युवक गिरफ्त में, फिलहाल पूछताछ जारीजयपुर। आदर्श नगर थाना इलाके में शनिवार सुबह सरेराह एक युवक ने प्रेम प्रंसग के चलते चाकू...

आतंकियों को कंधार तक छोड़ने वाले पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह का 82 की उम्र में निधन

जयपुर/बाड़मेर। अटल बिहारी वाजपेई की सरकार में विदेश मंत्री रहे जसवंत सिंह जसोल का आज सुबह 82 वर्ष की उम्र में निधन...
- Advertisement -