30 C
Jaipur
बुधवार, अगस्त 5, 2020

राजस्थान मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, विरोध की आवाज को दबाया नहीं जा सकता

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 23 जुलाई (आईएएनएस)। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि विरोध की आवाज को दबाया नहीं जा सकता, नहीं तो लोकतंत्र खतरे में पड़ जाएगा। साथ ही कोर्ट ने यह भी जानना चाहा कि क्या कांग्रेस पार्टी के अंदर लोकतंत्र मौजूद है।
दरअसल, शीर्ष अदालत ने यह टिप्पणी राजस्थान विधानसभा स्पीकर सी.पी. जोशी की याचिका की सुनवाई के दौरान किया। राजस्थान उच्च न्यायालय ने सचिन पायलट व 18 बागी कांग्रेस विधायकों को दल-बदल नोटिस पर जवाब देने के लिए समय अवधि बढ़ा दी है, जिसके विरोध में जोशी सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए।

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, बी.आर. गवई और कृष्णा मुरारी की पीठ ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मामले की सुनवाई की।

जोशी के प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल से न्यायमूर्ति मिश्रा ने पूछा, विरोध की आवाज को दबाया नहीं जा सकता..नहीं तो लोकतंत्र खतरे में पड़ जाएगा। आखिरकार वे जनता द्वारा चुने गए हैं। क्या वे अपनी असहमति नहीं जता सकते।

सिब्बल ने इसपर तर्क देते हुए कहा कि अगर विधायकों को अपनी आवाज उठानी है तो पार्टी के समक्ष उठानी चाहिए।

इसपर न्यायमूर्ति मिश्रा ने कहा, पार्टी के अंदर लोकतंत्र है या नहीं।

पीठ ने सिब्बल से पूछा कि क्या पार्टी की बैठक में शामिल होने के लिए एक व्हिप दिया गया था।

सिब्बल ने कहा कि जोशी ने बैठक में शामिल होने के लिए व्हिप जारी नहीं किया था, बल्कि यह केवल एक नोटिस था।

न्यायमूर्ति मिश्रा ने सिब्बल से पूछा कि क्या यह वह मामला नहीं हैं जहां पार्टी के सदस्य अपनी ही पार्टी के खिलाफ आवाज नहीं उठा सकते?

सिब्बल ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि यह निर्णय स्पीकर को करना होता है कि बैठक में शामिल नहीं होने पर क्या यह अयोग्य ठहराए जाने का मामला है। लेकिन यह बैठक में शामिल नहीं होने से ज्यादा पार्टी-विरोधी गतिविधि का मामला है।

पीठ ने जानना चाहा कि क्य प्रमाणिक व्हिप को पार्टी बैठक में शामिल होने के लिए जारी किया जा सकता है। पीठ ने कहा, क्या व्हिप केवल विधानसभा बैठक में शामिल होने के लिए वैध है या इसके बाहर भी बैठक में शामिल होने के लिए वैध है।

सिब्बल ने जोर देकर कहा कि यह एक व्हिप नहीं है, बल्कि यह पार्टी के मुख्य सचेतक द्वारा जारी किया गया एक नोटिस है।

पीठ ने इसका जवाब देते हुए कहा कि इसका मतलब पार्टी बैठक में शामिल होने का आग्रह किया गया था और अगर कोई बैठक में शामिल नहीं होता तो क्या यह अयोग्य ठहराए जाने का आधार हो सकता है?

पीठ ने कहा कि स्पीकर क्या निर्णय करेंगे यह कोई नहीं कह सकता। मामले की सुनवाई जारी रहेगी।

–आईएएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
राजस्थान मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, विरोध की आवाज को दबाया नहीं जा सकता 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

सोनू सूद : रील-लाइफ विलेन से रियल लाइफ हीरो तक

चेन्नई, 5 अगस्त (आईएएनएस)। तमिल फिल्म दर्शकों के लिए सोनू सूद अब तक फिल्म कल्लज्हगर सहित कुछ और फिल्मों में खलनायक की भूमिका निभाने...
- Advertisement -

कोविड वैक्सीन : जायडस कैडिला ने क्लिनिकल ट्रायल का दूसरा चरण शुरू

नई दिल्ली, 5 अगस्त (आईएएनएस)। दवा बनाने वाली कंपनी जायडस कैडिला ने बुधवार को घोषणा की कि कोविड-19 से बचाव के लिए बनाई गई...

आईएएस पत्नी ने पति के खिलाफ मामला दर्ज करवाया

मुजफ्फरनगर (उप्र), 5 अगस्त (आईएएनएस)। वर्ष 2013 बैच की आईएएस अधिकारी शैलजा शर्मा(37) ने अपने पति पर घर में घुसकर उसके और उसके...

रोहित ने स्पेन के गोलकीपर कासीलास को शानदार करियर के लिए दी बधाई

मुंबई, 5 अगस्त (आईएएनएस)। भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने स्पेन की विश्व कप विजेता फुटबाल टीम के कप्तान और गोलकीपर...

Related news

भाजपा अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां की नई टीम का ऐलान

जयपुर। पिछले साल दिसंबर के आखिरी सप्ताह में निर्वाचित हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया की 25 जनों...

बेनीवाल ने गहलोत को कहा: जिस दिन हमने घेरने का कदम उठाया तो तुम्हारे पांव उखड़ जाएंगे

जयपुर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चेतावनी देते हुए कहा है...

भाई और मैं दोस्त की तरह : श्वेता बसु प्रसाद

मुंबई, 2 अगस्त (आईएएनएस)। अभिनेत्री श्वेता बसु प्रसाद ने इस साल रक्षा बंधन योजना का खुलासा किया है।रक्षा बंधन योजना के बारे में श्वेता...

राजस्थान के ‘चाणक्य’ बने भाजपा अध्यक्ष डॉ. पूनियां, केंद्र के साथ बनने लगे हैं सफल समीकरण

जयपुर। राजस्थान में तीन दिन से जारी भारी सियासी उठापटक ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पसीने छुड़ाकर रख दिये...
- Advertisement -