29 C
Jaipur
मंगलवार, अगस्त 11, 2020

मप्र में कांग्रेस की पहली अग्निपरीक्षा उम्मीदवारों का चयन

- Advertisement -
- Advertisement -

भोपाल, 22 जुलाई (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश में आगामी समय में होने वाले विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस के लिए पहली अग्निपरीक्षा है उम्मीदवारों का चयन। एक तरफ जहां पार्टी में मंथन जारी है, वहीं दूसरी ओर सर्वे कराए जा रहे हैं। सर्वे के आधार पर ही टिकट देने की बात कही जा रही है। मगर भाजपा के असंतुष्टों पर भी कांग्रेस की पैनी नजर है।
राज्य में आगामी समय में 26 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव होना है, इनमें 24 विधानसभा क्षेत्र वे हैं, जहां से कांग्रेस के निर्वाचित विधायकों ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के साथ भाजपा का दामन थाम लिया है। वहीं दो स्थान विधायकों के निधन के कारण रिक्त हुए हैं।

पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा भी मानते हैं कि जिन 26 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव होने वाले हैं, उनमें अब तक 17 उम्मीदवारों के नाम लगभग तय कर लिए गए हैं, तो शेष स्थानों के लिए उम्मीदवारों का चयन जल्द ही कर लिया जाएगा।

दूसरी ओर, पूर्व जनसंपर्क मंत्री पी.सी. शर्मा का कहना है कि इस बार उम्मीदवारों का चयन सर्वे रिपोर्ट के आधार पर होगा, किसी नेता के कहने पर उम्मीदवार तय नहीं किए जाएंगे, क्योंकि अगर नेता चला जाता है तो उसके साथ ही विधायक भी चले जाते हैं।

कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी समस्या यह है कि भाजपा का दामन थामने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ पहले 22 और उसके बाद जो दो सदस्य भाजपा में गए हैं, वे जिन क्षेत्रों से निर्वाचित हुए थे, उन इलाकों में दूसरी पंक्ति का कोई बड़ा चेहरा और नाम उनके पास नहीं है। यही कारण है कि पार्टी फूंक-फूंक कर कदम बढ़ा रही है और जमीनी स्तर पर सर्वे कराने पर जोर है।

सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस ने अब तक तीन सर्वे करा लिए हैं और उसने एक-एक सीट पर तीन-तीन नाम की सूची तैयार कर ली है। इसके बाद भी उसकी नजर भाजपा के असंतुष्ट लोगों पर है जो नाराज चल रहे हैं। पार्टी को उम्मीद इस बात की है कि भाजपा के कई असंतुष्ट नेता उसके साथ आ सकते हैं और इसी इंतजार में उम्मीदवारों के नाम अंतिम तौर पर तय नहीं हो पा रहे हैं।

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि कांग्रेस के लिए उम्मीदवारों का चयन वर्तमान में सबसे बड़ी चुनौती है, क्योंकि जिन स्थानों पर चुनाव होने वाले हैं, वहां से उसकी प्रथम पंक्ति के नेता भाजपा का दामन थाम चुके हैं। उम्मीदवार चयन की अग्निपरीक्षा में सफल होने के बाद ही कांग्रेस की स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकेगा।

कांग्रेस में भले ही नेताओं की पसंद के आधार पर नहीं, बल्कि सर्वे के आधार पर टिकट दिए जाने की बात कही जा रही हो, मगर ऐसा संभव होता नहीं लगता, क्योंकि कांग्रेस में टिकट हमेशा नेताओं की पसंद से ही टिकट बंटते आए हैं और पार्टी आज जिस स्थिति में है, उसकी वजह भी यही है।

–आईएएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
मप्र में कांग्रेस की पहली अग्निपरीक्षा उम्मीदवारों का चयन 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

अपने नए पोस्ट में उदास नजर आए रणवीर सिंह

मुंबई, 11 अगस्त (आईएएनएस)। बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह ने मंगलवार को एक नई तस्वीर साझा की, जिसमें वह उदास दिखाई दे रहे हैं।रणवीर सिंह...
- Advertisement -

दुर्घटनाग्रस्त एयर इंडिया एक्सप्रेस को बीमा कंपनी से मिलेंगे 5 करोड़ डॉलर

चेन्नई, 11 अगस्त (आईएएनएस)। कोझिकोड हवाईअड्डे पर शुक्रवार की शाम दुर्घटनाग्रस्त होने वाला एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान एयरलाइन का अपना था और यह...

ऑपरेशन राजस्थान : अहमद पटेल संकटमोचक बनकर उभरे

नई दिल्ली, 11 अगस्त (आईएएनएस)। राजस्थान में कांग्रेस सरकार को बचाने और बागी नेता सचिन पायलट और उनके समर्थकों की पार्टी में वापसी सुनिश्चित...

अशोक गहलोत सरकार बचते ही वसुंधरा राजे क्यों हुईं हमलावर?

जयपुर। राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच 1 महीने तक चली खींचतान का अंत हो...

Related news

NRC (National Register of citizen) और CAB (Citizenship Ammendment Bill) के बाद क्या हैं PCB और UCC…?

New delhiकेंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा इसी सप्ताह नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Ammendment Bill), यानी CAB पास करवाने के बाद गुरुवार...

हर 100 साल में आती है महामारी, 1720, 1820, 1920 और अब 2020 में भयानक Covid-19

रामगोपाल जाट कोरोना वायरस की चपेट में अब पूरी दुनिया आ चुकी है। सबसे ज्यादा करीब 5500 मौतें चीन में हुई है। चीन के एक...

गांधीवादियों ने किया गरीबी भारत छोड़ो उपवास (लीड-1)

भोपाल, 9 अगस्त (आईएएनएस)। आजादी के आंदोलन में महात्मा गांधी के नेतृत्व में भारत छोड़ो आंदोलन चलाया गया था, उस आंदोलन की सालगिरह पर...

बेनीवाल ने गहलोत को कहा: जिस दिन हमने घेरने का कदम उठाया तो तुम्हारे पांव उखड़ जाएंगे

जयपुर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चेतावनी देते हुए कहा है...
- Advertisement -