30 C
Jaipur
शनिवार, अगस्त 15, 2020

बुंदेलखंड में गांव और खेत में पानी रोकने की जुगत

- Advertisement -
- Advertisement -

बांदा/छतरपुर 20 जुलाई (आईएएनएस)। देश और दुनिया में बुंदेलखंड की पहचान सूखा, गरीबी, पलायन और बेरोजगारी के कारण है, मगर अब यहां के लोग हालात बदलना चाहते हैं। इसके लिए सबसे जरूरी पानी को सहेजने की दिशा में पहल की है।

इसके तहत खेत का पानी खेत में और गांव का पानी गांव में ही रोकने की जुगत तेज की गई है, जिससे बुंदेलखंड के माथे पर चस्पा कलंक को मिटाया जा सके।

बुंदेलखंड के बांदा जिले के बबेरु विकासखंड के अंधाव गांव में किसानों ने पानी को सहेजने की योजना बनाई है। इसके जरिए बारिश का पानी गांव और खेत से बाहर नहीं जा पाएगा। यह प्रयास अगर सफल होता है तो गांव की समस्या को पानी के संकट से दूर किया जा सकेगा।

शोध छात्र और जल संरक्षण के लिए काम करने वाले पर्यावरण कार्यकर्ता रामबाबू तिवारी ने बताया कि गांव की 300 बीघे खेतों में मेड़ बनाकर बरसात के पानी के संग्रहण के लिए काम किया जा रहा है। गांव वालों ने 300 बीघे में (जल संरक्षण हेतु खेत का पानी खेत में, गांव का पानी गांव में अभियान के तहत खेत पर मेड़, मेड़ पर पेड़) मेड़बंदी करवा दी है। इस मेड़बंदी से खेत का पानी खेत में ही रह जाएगा और किसान धान तक की खेती कर सकेंगे।

कोरोना काल में घर वापस आए प्रवासी मजदूर एवं किसान जो रोजगार और जीविका हेतु अन्य प्रदेशों में पलायन कर चुके थे, वह इस वक्त अपने गांव घर में आ चुके। ये कामगार भी अपने खेतों में काम कर रहे हैं और मेड़बंदी में लगे हैं। यह प्रवासी मजदूर भी अपने खेतों के जरिए अपनी जिंदगी में बदलाव लाना चाह रहे हैं।

रोजगार की तलाश में दूसरे प्रदेशों को जाने वाले लव विश्वकर्मा बताते हैं, इस साल हम लोगों ने अपने चार बीघे खेत में अपने निजी खर्चे से मेड़ बनाई है और धान की खेती के बाद गेहूं की खेती करेंगे, हर साल इस चार बीघे खेत को बटाई को दे देते थे लेकिन इस साल खुद खेती कर रहे हैं। इसी के चलते खेत में पैसा खर्चा कर खेत को समतल कराया गया, मेड़ बनवाई। इससे खेती में उपज बढ़ेगी और हम अपने साल भर का खर्चा इसी खेत से चला सकेंगे क्योंकि इस कोरोना के चलते अब हम परदेश कमाने नहीं जाएंगे।

कोरोना की वजह से अपने गांव लौटे किसानों की मदद के लिए लोग भी आगे आए हैं। खेतों को समतल करने और मेड़बंदी के लिए ट्रैक्टर की जरूरत थी मगर उनके पास नगदी नहीं थी तो ट्रैक्टर मालिकों ने किसानों की मदद का फैसला लिया। इन किसानों से ट्रैक्टर मालिकों ने सिर्फ डीजल का पैसा लिया है और फसल आने तक बाकी किराया और अन्य मेहनताना लेंगे।

किसान मनोज दीक्षित बताते हैं, इस साल खेत का पानी खेत में, गांव का पानी गांव मिशन के तहत नौ बीघे खेत में मेड़ बनाई है। इसके पहले खेत में हम लोग सिर्फ एक ही फसल ले पाते थे लेकिन इस साल हम लोग दोहरी फसल लेने की तैयारी में हैं और इस खेत के मेड़ में वृक्ष भी लगा रहे हैं। निश्चित ही इससे हमारी आमदनी बढ़ेगी, गांव में रोजगार बढ़ेगा। ईश्वर की कृपा से बरसात बस अच्छी हो जाए।

जल संरक्षण के क्षेत्र में काम करने वाले बुंदेलखंड के निवासी और कई किताबों के लेखक डा. के एस तिवारी का कहना है, सतही और भूगर्र्भीय जल बुरी तरह प्रदूषित हो चुका है। उसकी वजह हमारे द्वारा जल का अति दोहन और उपयोग दोनों है। जलसंरक्षण के लिए आवश्यक है कि जल संरचनाओं को संरक्षित किया जाए। उनको पुनर्जीवित किया जाए। बांदा के अंधाव गांव में जो प्रयोग किया जा रहा है वह प्रशंसनीय है। इसके नतीजे आने वाले वर्षो में देखने को मिल सकते हैं। लोगों में पानी के संरक्षण के लिए जागृति लाने का यह बेहतरीन प्रयास तो है ही।

–आईएएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
बुंदेलखंड में गांव और खेत में पानी रोकने की जुगत 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

कैप्टन कूल भारतीयों के दिलों से कभी आउट नहीं होंगे : अनुराग ठाकुर

नई दिल्ली, 15 अगस्त (आईएएनएस)। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के पूर्व अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से शनिवार को संन्यास लेने वाले...
- Advertisement -

मेघालय ने अर्थव्यवस्था के पुनरुत्थान के लिए टास्क फोर्स गठित किया है : संगमा

शिलांग, 15 अगस्त (आईएएनएस)। मेघालय के मुख्यमंत्री कॉनराड के. संगमा ने शनिवार को 74 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर कहा कि अर्थव्यवस्था...

केरल में कोरोना के 1608 नए मामले

तिरुवनंतपुरम, 15 अगस्त (आईएएनएस)। केरल में शनिवार को कोरोनावायरस के 1,608 नए मामले सामने आए। फिलहाल आइसोलेशन में रहीं स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने...

शोले ने पूरे किए 45 साल, कलाकारों ने बताई खासियत

मुंबई, 15 अगस्त (आईएएनएस)। ब्लॉकबस्टर फिल्म शोले ने 15 अगस्त को अपने 45 साल पूरे कर लिए। इस खास मौके पर फिल्म के कलाकार...

Related news

RLP मुखिया हनुमान बेनीवाल का नया रूप आया सामने, क्या इसके मायने?

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल का नया रूप सामने आया है। हनुमान बेनीवाल ने खुद फेसबुक...

Jaipur rain: जयपुर में 1981 जैसे बाढ़ के हालात, विधायक भी फंसे

जयपुर। राजस्थान की राजधानी जयपुर में सुबह 3:00 बजे से शुरू हुई भारी बरसात का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा...

आत्म-निर्भर भारत पर निबंध लिखेंगे देशभर के छात्र

नई दिल्ली, 6 अगस्त (आईएएनएस)। स्वतंत्रता दिवस समारोह के उपलक्ष्य में माईगव के साथ साझेदारी में शिक्षा मंत्रालय देश भर में स्कूली छात्रों के...

NRC (National Register of citizen) और CAB (Citizenship Ammendment Bill) के बाद क्या हैं PCB और UCC…?

New delhiकेंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा इसी सप्ताह नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Ammendment Bill), यानी CAB पास करवाने के बाद गुरुवार...
- Advertisement -