अर्धसैनिक बलों और पूर्व सैनिकों के लिए फेसबुक, इंस्टाग्राम प्रतिबंधित है, गृह मंत्रालय ने जारी किया आदेश

नई दिल्ली। सीआरपीएफ, सीआईएसएफ, बीएसएफ आईटीबीपी के जवानों समेत पूर्व सैनिकों के लिए गृह मंत्रालय ने फेसबुक को प्रतिबंधित कर दिया है। गृह मंत्रालय की तरफ से जारी आदेश में स्पष्ट तौर पर कहा है कि अर्धसैनिक बल फेसबुक का इस्तेमाल नहीं कर सकते।

गृह मंत्रालय की तरफ से एनएसजी को लिखे गए पत्र में स्पष्ट उल्लेख किया गया है कि सुरक्षा में लगे हुए इन सभी जवानों के लिए 87 प्रकार के सोशल मीडिया एप्लीकेशन को प्रतिबंधित किया जाता है।

गृह मंत्रालय ने कहा है कि उनको गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी की तरफ से 9 जुलाई को संदेश के रूप में एक ईमेल मिला है, जिसमें उन्होंने सभी विदेशी सोशल मीडिया एप्लीकेशन को अर्धसैनिक बलों के लिए प्रतिबंधित किया है।

पूर्व सैनिकों के लिए भी किया प्रतिबंध

सीआईएसएफ, सीआरपीएफ, बीएसएफ और आईटीबीपी के जवानों के साथ ही पूर्व सैनिकों के लिए भी इन सभी सोशल मीडिया एप्लीकेशंस को प्रतिबंधित किया गया है। साथ ही गृह मंत्रालय ने कहा है कि एनएसजी इस मामले को लेकर 15 जुलाई तक हार्ड कॉपी भेजकर सूचित करें। गृह मंत्रालय ने इसके साथ ही यह भी कहा है कि फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे स्वदेशी एप्स होने चाहिए, जिनका विदेशी इस्तेमाल नहीं कर सकें।

फेसबुक इस्तेमाल करनी है तो सेना से दें इस्तीफा: हाई कोर्ट

दूसरी तरफ गृह मंत्रालय द्वारा 87 प्रकार के सोशल मीडिया एप्लीकेशंस को प्रतिबंधित किए जाने के खिलाफ जम्मू कश्मीर में तैनात लेफ्टिनेंट कर्नल पीके चौधरी ने दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की। जिस पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने लेफ्टिनेंट कर्नल को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि यदि फेसबुक नहीं छोड़ सकते तो सेना से इस्तीफा दे दें।

यह भी पढ़ें :  रतन टाटा के बाद अज़ीम प्रेमजी ने भी दिया पीएम फंड में दान, इतना रुपया देकर किया सहयोग

कोर्ट ने लेफ्टिनेंट कर्नल पीके चौधरी को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा है कि वे तुरंत प्रभाव से अपना फेसबुक अकाउंट डिलीट कर दें इसके साथ ही इस मामले में मिलिट्री इंटेलिजेंस महानिदेशक व सेना प्रमुख को भी पक्षकार बनाया गया है।

आखिर क्यों जरूरत पड़ी?

इन सभी 87 प्रकार के सोशल मीडिया एप्लीकेशंस पर गृह मंत्रालय द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने को लेकर गृह मंत्रालय के एक उच्च अधिकारी ने बताया कि सोशल मीडिया एप्लीकेशंस के माध्यम से कई विदेशी एजेंसियां भारत की सुरक्षा में सेंधमारी कर रही हैं, जिससे देश की सुरक्षा खतरे में पड़ सकती है।

स्वदेशी एप्लीकेशन बनाने के प्रयास जारी

गृह मंत्रालय के अधिकारी का दावा है कि सीआईएसफ, सीआरपीएफ, बीएसएफ समेत भारतीय सेना के लिए सोशल मीडिया का स्वदेशी प्लेटफार्म बनाने के लिए कई देशी कंपनियों को ऑफर दिया गया है। संभावना है कि जल्द ही कई नई सोशल मीडिया एप्लीकेशंस बनकर तैयार होंगी, जिससे विदेशी एजेंट्स भारत की सूचना नहीं ले सकेंगे।