27 C
Jaipur
मंगलवार, अगस्त 11, 2020

पैंगोंग झील और डेपसांग से अभी तक पीछे नहीं हटे चीनी सैनिक

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 7 जुलाई (आईएएनएस)। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिक अभी तक पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील और डेपसांग से पीछे नहीं हटे हैं। सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि भारतीय सेना ने यह पाया है कि अपने तमाम सामान सहित चीनी सैनिक पैंगोंग झील और डेपसांग क्षेत्र से वापस नहीं लौटे हैं।
भारतीय और चीनी सैनिकों के हटने की प्रक्रिया लद्दाख सेक्टर में गलवान घाटी, हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा पोस्ट में शुरू हुई है। हालांकि यह अभी तक सत्यापित नहीं किया गया है।

दो पक्षों की ओर से सेनाओं को हटाने की प्रक्रिया दो महीने के सैन्य गतिरोध के बाद कॉर्प्स कमांडर स्तर की बैठकों में तय शर्त के अनुसार हो रही है।

सूत्रों ने कहा कि चीनी सैनिकों को गलवान घाटी में गश्त बिंदु 14 पर टेंट और संरचनाओं को हटाते हुए देखा गया था, जहां 15 जून की रात भारतीय और पीएलए के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी। चार दशकों में दोनों सेनाओं के बीच हुई इस सबसे भीषण झड़प में कुल 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। वहीं चीन के भी कुछ सैनिक मारे जाने की खबर है, मगर चीन ने अभी तक अपने हताहत हुए सैनिकों का आंकड़ा स्पष्ट नहीं किया है।

कोर कमांडरों के बीच हुए समझौते के अनुसार, वास्तविक नियंत्रण रेखा के दोनों ओर कम से कम 1.5 किमी. का एक बफर क्षेत्र बनाया जाना है।

सूत्रों ने कहा कि गलवान घाटी में बर्फ पिघलने से गलवान नदी का जल स्तर अचानक बढ़ गया है, जिससे चीनियों को क्षेत्र से तेजी से हटने के लिए मजबूर होना पड़ा होगा। बताया जा रहा है कि भारतीय सेना चीनी सैनिकों पर नजर बनाए रखने के लिए ड्रोन का उपयोग कर रही है, क्योंकि गलवान नदी के बढ़ते पानी की वजह से वहां जाकर स्थिति का आकलन करने में बाधा उत्पन्न हुई है।

सूत्रों ने कहा कि दोनों पक्षों के बीच सबसे विवादास्पद मुद्दा पैंगोंग झील के फिंगर-4 क्षेत्र और डेपसांग में चीनी सैनिकों का पीछे हटना लगभग नगण्य है।

पैंगोंग झील के पास चीनी सैनिक फिंगर-4 तक डेरा डाले हुए हैं, जहां वे 120 से अधिक वाहन और एक दर्जन नाव लेकर आए हुए हैं। इसके अलावा चीनी सेना ने भी गलवान के उत्तर में पठार डेपसांग बुल के पास के क्षेत्र में एक नया मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने शिविर स्थापित करने के साथ ही वाहनों और सैनिकों को तैनात किया है।

हालांकि गतिरोध खत्म करने के लिए दोनों देशों के ओर के सैन्य कमांडर एक-दूसरे के लगातार संपर्क में हैं।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने सोमवार को कहा था कि दोनों पक्ष सीमा पर गतिरोध को कम करने के लिए प्रभावी उपाय कर रहे हैं।

हालांकि, भारत पूरी तरह से सतर्क है और उसकी सेना और वायु सेना हाई अलर्ट पर है।

–आईएएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
पैंगोंग झील और डेपसांग से अभी तक पीछे नहीं हटे चीनी सैनिक 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

नोएडा : 100 डायल कर पीएम मोदी को दी धमकी, पुलिस ने युवक को किया गिरफ्तार

गौतमबुद्धनगर, 10 अगस्त (आईएएनएस)। नोएडा के सेक्टर 66 मामूरा से एक युवक को 100 नम्बर डायल करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जान से मारने...
- Advertisement -

स्वतंत्रता दिवस : लालकिले में अदृश्य दुश्मन से ज्यादा खतरा

नई दिल्ली, 10 अगस्त (आईएएनएस)। कोरोना वायरस ने पूरे देश को ग्रसित कर रखा है, जिसका असर 15 अगस्त को होने वाले स्वतंत्रता दिवस...

उप्र में 10-10 फीडरों की निगरानी का जिम्मा लें सांसद, विधायक : मंत्री

लखनऊ, 11 अगस्त (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने सोमवार को कहा कि सभी गांवों को 24 घंटे बिजली आपूर्ति की...

सदन की वर्चुअल कार्यवाही व्यावहारिक नहीं है : दीक्षित

लखनऊ, 10 अगस्त (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित ने कहा कि 20 अगस्त से आरंभ होने वाला विधानसभा का मानसून सत्र...

Related news

आत्म-निर्भर भारत पर निबंध लिखेंगे देशभर के छात्र

नई दिल्ली, 6 अगस्त (आईएएनएस)। स्वतंत्रता दिवस समारोह के उपलक्ष्य में माईगव के साथ साझेदारी में शिक्षा मंत्रालय देश भर में स्कूली छात्रों के...

NRC (National Register of citizen) और CAB (Citizenship Ammendment Bill) के बाद क्या हैं PCB और UCC…?

New delhiकेंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा इसी सप्ताह नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Ammendment Bill), यानी CAB पास करवाने के बाद गुरुवार...

हर 100 साल में आती है महामारी, 1720, 1820, 1920 और अब 2020 में भयानक Covid-19

रामगोपाल जाट कोरोना वायरस की चपेट में अब पूरी दुनिया आ चुकी है। सबसे ज्यादा करीब 5500 मौतें चीन में हुई है। चीन के एक...

वसुंधरा-गहलोत दोनों एक दूसरे के भ्रष्टाचार पर पर्दा डालते हैं: बेनीवाल

जयपुर। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर से सांसद हनुमान बेनीवाल ने एक बार फिर से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व...
- Advertisement -